7 दिनों के बाद छोटी दिवाली के दिन आम आदमी को मिली राहत, जानें पेट्रोल-डीजल के नए रेट्स



लगातार सात दिनों तक तेल की कीमत में बढ़ोतरी के बाद बुधवार, 3 नवंबर को आम आदमी को राहत मिली है. सरकारी तेल कंपनियों IOC, HPCL और BPCL ने बुधवार के लिए तेल की कीमतें जारी कर दी है. तेल कंपनियों ने बुधवार को पेट्रोल और डीजल के दाम (Petrol Diesel Price) में कोई बदलाव नहीं किया है. IOC के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल और डीजल का भाव क्रमश: 110.04 रुपये और 98.42 रुपये पर स्थिर है.


पेट्रोल की कीमत अब एयलाइंस को बेचने जाने फ्यूल से 33.22 फीसदी अधिक है. यानी पेट्रोल की कीमत जेट फ्यूट या एटीएफ से ज्यादा है. दिल्ली में एटीएफ की कीमत 82,638.79 प्रति किलो लीटर या मोटे तौर पर 82.6 रुपये प्रति लीटर है, जबकि एक लीटर का दाम 110 रुपये से ज्यादा है.



चार महानगरों में तेल के दाम

मुंबई में फिलहाल एक लीटर पेट्रोल की कीमत 115.85 रुपये और डीजल 106.62 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है. चेन्नई में पेट्रोल की कीमतें 106 रुपये प्रति लीटर से ऊपर चली गईं और वर्तमान में 106.66 रुपये प्रति लीटर पर बेची जा रही है, जबकि डीजल का भाव 102.59 रुपये प्रति लीटर है.


शहर पेट्रोल (रुपये/लीटर) डीज़ल (रुपये/लीटर)

नई दिल्‍ली 110.04 98.42

मुंबई 115.85 106.62

कोलकाता 110.49 101.56

चेन्‍नई 106.66 102.59

लखनऊ 106.94 98.89

सरकारी तेल कंपनियों के मुताबिक, चार मेट्रो शहरों में, मुंबई में तेल की दरें सबसे अधिक हैं. वैल्यू एडेड टैक्स या वैट के कारण राज्यों में तेल की दरें अलग-अलग हैं.


कच्चे तेल की कीमतें गिरी

वैश्विक स्तर पर, तेल की कीमतें गिरी हैं. ब्रेंट क्रूड वायदा 87 सेंट या 1.03 फीसदी गिरकर 83.85 डॉलर प्रति बैरल हो गया. यूएस वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) क्रूड वायदा 85 सेंट या 1 फीसदी की गिरावट के साथ 82.76 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया.


मौजूदा समय में क्रूड के दाम कई साल के उच्चतम स्तर पर है. कोरोना महामारी के बाद की डिमांड बढ़ने के बाद कच्चे तेल का एक्सपोर्ट करने वाले देशों के संगठन और रूस के नेतृत्व वाले सहयोगियों, या ओपेक + से मदद मिली है. अब धीरे-धीरे, हर महीने उत्पादन में 400,000 बैरल प्रति दिन (बीपीडी) की तेजी आई है.


अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने ओपेक+ देशों से  सप्लाई बढ़ाने के लिए कदम उठाने को कहा है. क्योंकि ग्लोबल अर्थव्यवस्था में मजबूत सुधार के लिए उत्पादन को बढ़ावा देना जरूरी है. साथ ही, अन्य जी20 ऊर्जा उत्पादक देशों से क्रूड उत्पादन बढ़ाने का आग्रह किया है.

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Post a Comment

    0 Comments