गांधी जी की बात मानेंगे तो आप बीमार नहीं पड़ेंगे, जानें उनके 9 सेहत मंत्र



 महात्मा गांधी ने कहा था कि यदि कोई व्यक्ति स्वच्छ नहीं है तो वह स्वस्थ नहीं रह सकता है। वह कहते थे कि शौचालय को अपने ड्रॉइंग रूम की तरह साफ रखना जरूरी है। मौजूदा समय में पूरी दुनिया ने स्वास्थ्य से जुड़ी बड़ी आपदा का सामना किया। वहीं दिन-ब-दिन सेहत से जुड़ी तमाम चुनौतियों का व्यक्ति सामना कर रहा है। गांधी के सेहत, स्वच्छता से जुड़ी बातों के संदर्भ में किए गए चिंतन उस दौर में भी प्रासंगिक थे और कोरोना वायरस के इस दौर में भी सार्थक है। ऐसे में अगर आप गांधी जी की बात मानेंगे तो बीमार नहीं पड़ेंगे।


1. आहार के लिए ये था गांधी का नियम


महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के गांधी और पीस स्टडीज विभाग के प्रमुख प्रोफेसर सुनील महावार कहते हैं कि गांधी जी निरोग रहने के लिए आहार पर विशेष बल देते थे। वह कहते थे आहार स्वाद के लिए नहीं उदर पूर्ति के लिए होना चाहिए। आहार सादा होना चाहिए। इससे शरीर निरोगी रहेगा। गांधी ने अपनी पुस्तक में लिखा है कि व्यक्ति का जब पेट खराब होता है तो उसे उसके कारणों के बारे में सोचना चाहिए। क्या उसने अधिक खाना खाया? क्या उसने खराब या गरिष्ठ खाना खाया? पेट दर्द होने पर डॉक्टर हमको दवाई देगा। अगर यही प्रक्रिया चलती रही तो हमको दवा की आदत पड़ जाएगी। ऐसे में किसी व्याधि के मूल को समझना चाहिए। प्रोफेसर सुनील महावार कहते हैं कि गांधी हिंद स्वराज में लिखते हैं कि मुझे चिकित्सक की आवश्यकता नहीं है। मैं अपने शरीर का स्वयं ध्यान रख सकता हूं। पंजाब विश्वविद्यालय के गांधी और पीस स्टडीज विभाग के प्रोफेसर मनीष शर्मा मानते हैं कि गांधी कहते थे कि आहार पर कंट्रोल जरूरी है। खान-पान पर नियंत्रण कई समस्याओं का हल दे देता है।

2. मन और कर्म से स्वच्छ रहेंगे तो स्वस्थ रहेंगे

पंजाब विश्वविद्यालय के गांधी और पीस स्टडीज विभाग के प्रोफेसर मनीष शर्मा कहते हैं कि गांधी का मानना था कि अगर आप मन और कर्म से चीजों को सही तरीके से देखते हैं तो आपके कई सारे मुद्दे सामने नहीं आएंगे। दिमाग गलत धारणाओं को बना लेता है। उससे बचना है। यही तनाव का कारण बनता है जो हार्ट अटैक और बीपी का कारण बनता है। गांधी कहते थे कि अगर आपका इंद्रियों पर नियंत्रण हो गया तो समस्याओं का हल मिल सकता है। गांधी ने साउथ अफ्रीका में कहा था कि सभी को खुद के मन को मेहतर होना चाहिए।


Post a Comment

0 Comments