बिहार के 8 जिलों में शुरू होगा बालू खनन, बढ़ी कीमतों से मिलेगी राहत



 बिहार में एक बार फिर 1 अक्टूबर यानि शुक्रवार से बालू का खनन शुरू हो जाएगा. दरअसल एनजीटी(NGT) के रोक के कारण 1 जुलाई से 30 सितंबर तक बिहार में बालू खनन (Sand Mining) पर फिलहाल रोक लगी है, अब रोक हटते ही कल से एक बार फिर बालू खनन का काम शुरू हो जाएगा. हालांकि, अभी बालू खनन बिहार के सिर्फ 8 जिलों में शुरू हो सकेगा. बिहार के बक्सर, अरवल, नवादा, बांका, वैशाली, बेतिया, मधेपुरा, किशनगंज जिले में शुक्रवार से बालू खनन का कार्य शुरू होगा. फिलहाल पुराने बंदोबस्तधारियों की लीज अवधि को बढ़ाया जाएगा. अब ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि बालू खनन शुरू होते ही बालू के बढ़े रेट में कमी आएगी, जिससे लोगों को राहत मिल सकेगी. पिछले दिनों बिहार के खान मंत्री जनक राम (Janak Ram) ने भी न्यूज18 से खास बातचीत में भरोसा दिया था कि 1 अक्‍टूबर से रेत खनन का काम शुरू हो जाएगा. उसके बाद सरकारी दाम पर बालू मिलने लगेगी . दरअसल रेत खनन पर रोक के चलते बालू बहुत महंगी बेची जा रही है. रेत की कालाबाजारी भी जोरों पर है. रेत माफिया अनाप-शनाप पैसों पर बालू बेच रहे हैं. बालू का खनन शुरू होने पर आमलोगों को राहत मिलेगीऔर कालाबाजारी पर रोक लगेगी .

बिहार के खान मंत्री जनक राम ने न्‍यूज 18 को बताया कि 1 अक्‍टूबर से खनन शुरू हो सकता है. जनक राम ने बताया की मुख्यमंत्री आवास में खान विभाग की महत्वपूर्ण समीक्षा बैठक हुई, जिसमें जल्‍द से जल्‍द बालू खनन शुरू करने और अवैध बालू खनन पर रोक लगाने के तरीकों पर चर्चा हुई. इसके साथ ही दूसरे राज्‍यों से आने वाली अवैध बालू पर रोक लगाने पर विचार किया गया. उन्‍होंने बताया कि बैठक में यह तय किया गया कि रेत खनन का काम जल्‍द से जल्‍द शुरू किया जाए.

बरसात के मौसम में रेत खनन पर रोक

कहा गया है कि रेत खनन पर रोक बरसात के कारण लगाई गई थी. बहराल इसकी वजह से मार्केट में अवैध तरी के से काफ़ी महंगे रेट पर बालू बिकने लगी. आमलोग के साथ ही निर्माण उद्योग से जुड़े लोग खासे परेशान हुए. कहा गया है कि. खान विभाग सरकारी रेट पर बालू बेच रहा था, लेकिन ढुलाई के कारणवह काफी महंगी बिक रही थी. लोगों को बालू आसानी से मिली नहीं . इसकी वजह से निर्माण के काम भी बेहद धीमे हो गए.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी पिछले दिनों हुई खान विभाग की समीक्षा बैठक में कई निर्देश दिए थे. मुख्यमंत्री ने कहा था कि बिहार से झारखंड के अलग होने के बाद बालू को ही राजस्व का एक मुख्य स्रोत माना जाता था. सरकार में आने के बाद हमारी सरकार ने सभी क्षेत्रों में विकास किया है, इससे राजस्व के कई स्रोत बढ़े हैं. बालू आसानी से और उचित दाम पर मिले इसके लिए विभाग को लगातार प्रयास करने चाहिए. उन्‍होंने कहा कि पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी संतुलन को ध्यान में रखते हुए सभी काम किए जाएं. सीएम ने कहा कि खान विभाग अवैध खनन पर कठोरता से अंकुश लगाए और इसमें शामिल लोगों पर कठोर कानूनी कार्रवाई करे.

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,


    Post a Comment

    0 Comments