हौसला के आगे फीकी पड़ी गरीबी, नौकरी के साथ घंटे की पढ़ाई कर दूसरे प्रयास में नागार्जुन ऐसे बने IAS

 

हौसला के आगे फीकी पड़ी गरीबी, नौकरी के साथ घंटे की पढ़ाई कर दूसरे प्रयास में नागार्जुन ऐसे बने IAS

UPSC की परीक्षा पास कर IAS अधिकारी बनने का सपना लाखों लोग देखते हैं. लेकिन इसकी मंज़िल में इतने कांटे बिछे रहते हैं कि हर कोई इस परीक्षा को सफलतापूर्वक पास नहीं कर पाता है. मात्र कुछ ही ऐसे दृढ़ संकल्प वाले लोग होते हैं जो कठिनाइयों के बावजूद इस परीक्षा में सफल होकर अपना सपना पूरा कर लेते हैं. इस पोस्ट में हम एक ऐसे ही दृढ़ संकल्पित व्यक्ति की बात कर रहे हैं.जो आर्थिक तंगी के बावजूद पहले डॉक्टर बने. और फिर UPSC की परीक्षा क्रैक करके अपना आईएएस अफसर बनने का सपना भी पूरा किया.

नागार्जुन का जन्म 9 मई, 1992 को हुआ था.कर्नाटक के एक छोटे से गांव में जन्में नागार्जुन का परिवार आर्थिक रूप से हमेशा से ही कमज़ोर रहा.इसके साथ ही जिस गांव में नागार्जुन का भरण-पोषण हुआ वहाँ कुछ ख़ास सुविधाएं भी नहीं थी. लेकिन बचपन से ही गौड़ा अपनी ज़िन्दगी में कुछ बड़ा करने का दृढ़ संकल्प लिए हुए थे. शुरूआती दौर से ही कड़ी मेहनत और लगन के साथ पढाई करते हुए नागार्जुन ने अपनी इंटरमीडियट की परीक्षा पास कर ली. इसके बाद उन्होनें मेडिकल एंट्रेंस परीक्षा दी. इस परीक्षा में भी वो सफल हुए. उन्होनें MBBS कोर्स में दाखिला ले लिया.

की पढ़ाई पूरी करते ही उन्होनें एक हस्पताल में रेजिडेंट के पद पर नौकरी ज्वाइन कर ली. लेकिन इस नौकरी में उन्हें संतुष्टि नहीं मिलती थी. उन्होनें UPSC परीक्षा को ही अपनी मंज़िल बना ली थी.लेकिन क्योंकि उनके घर में पहले से ही आर्थिक तंगी का माहौल था.इसलिए वो नौकरी नहीं छोड़ सकते थे. इसी वजह से नौकरी के साथ-साथ उन्होनें परीक्षा की तैयारी करनी शुरू कर दी.

नागार्जुन अपनी नौकरी में पूरी तरह से ईमानदार थे. इसके साथ ही वो कड़ी मेहनत और लगन के साथ UPSC क्रैक करने की तैयारी भी कर रहे थे. दोनों ही कामों को बखूबी करना उनके लिए थोड़ा मुश्किल हो रहा था.लेकिन उन्होनें हार नहीं मानी. रोज़ाना वो ड्यूटी ख़त्म करके 6-8 घंटे की पढ़ाई ज़रूर करते थे. उनके पास संसाधन कम ज़रूर थे. लेकिन उनका हौसला काफी मज़बूत था.

नागार्जुन ने साल 2018 में UPSC की परीक्षा क्रैक की. हालांकि,उन्हें ये सफलता दूसरे प्रयास में हासिल हुई.लेकिन उन्होनें अपनी मेहनत और लगन से 418वीं रैंक के साथ परीक्षा में जीत हासिल की. नागार्जुन का कहना है कि सही रणनीति के साथ अगर आप रोज़ाना 6-8 घंटे की पढ़ाई कर लेंगे,तो नौकरी करते हुए भी आप इस परीक्षा में सफल हो सकते हैं. वो मानते हैं कि इस परीक्षा की तैयारी के दौरान ये ज़रूरी है कि आप जल्द से जल्द कोर्स ख़त्म कर लें. इससे आपको रिविज़न का अच्छा समय मिल जाएगा. आपको बता दें कि हाल ही में उन्होनें IAS अफसर सृष्टि देशमुख से सगाई की है.

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

     

    Post a Comment

    0 Comments