बिहार के किसानों के लिए शहर में ठहरने का इंतजाम कर रही सरकार, एक काउंटर पर होगा हर काम



बिहार के सभी प्रखंडों में किसान कृषि संबंधी सभी काम ई-किसान भवन में एकल खिड़की पर करा सकेंगे। कृषि विभाग (Bihar Agriculture Department) ने योजना को जमीन पर उतारने की कवायद तेज कर दी है। राज्य के 534 में से 455 प्रखंडों में ई-किसान भवन बनकर तैयार हैं। कृषि विभाग ने इसके संचालन की प्रक्रिया तय कर दी। शीघ्र ही एकल खिड़की से किसानों को सारी सुविधाएं मिलने लगेंगी। हालांकि अभी करीब 80 प्रखंडों में यह भवन बनना बाकी है। ई-किसान भवन योजना के तहत सरकार का मुख्य उदेश्य किसानों को सारी सुविधाएं एक ही छत के नीचे देना है।

योजना का अनुदान हो या विज्ञानी से परामर्श, सब मिलेगा

सरकार की योजना के तहत किसान को अंतरराष्ट्रीय बाजार में अपने उत्पाद की कीमत जाननी हो या मिट्टी की जांच करानी हो। प्रखंड के आलाधिकारियों के पास किसी योजना के अनुदान का आवेदन जमा करना हो या किसी विज्ञानी से खेती की सलाह लेनी हो। सारी सुविधाएं ई-किसान भवन में उपलब्ध होंगी।

रात में किसानों के ठहरने के लिए होगी व्यवस्था

अहम यह है कि इसके साथ रात में किसानों के ठहरने के लिए डारमेट्री की भी व्यवस्था होगी। सभी भवन कंप्यूटर और इंटरनेट की सुविधा से लैस होंगे। इन भवनों में कंप्यूटर और इंटरनेट की सुविधा के अलावा मिट्टी जांच प्रयोगशाला का भी प्रविधान किया गया है। कृषि निदेशालय ने जहां केंद्र बन गए हैं, वहां के ई-किसान भवनों के संचालन व रख-रखाव के निर्देश जारी दिया है।

भवन के रख-रखाव पर प्रति माह खर्च होंगे 15 हजार रुपये

प्रखंड कृषि अधिकारी इन भवनों के प्रभारी बनाए गए हैं। फर्नीचर की खरीद के लिए संयुक्त कृषि निदेशक (शस्य) की अध्यक्षता में चार सदस्यीय कमेटी बनी है। साथ ही परिचालन और प्रबंधन के लिए सभी जिलों में जिला कृषि अधिकारी की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय कमेटी बनाई गई है। ई-किसान भवन के रख-रखाव पर हर महीने 15 हजार रुपये खर्च किए जा सकेंगे।

प्रशिक्षण केंद्र को किराये पर भी दिया जाएगा

सरकार ने तय किया है कि ई-किसान भवन के पहले तल पर प्रशिक्षण केंद्र होगा, जिसे किराये पर दिया जा सकता है। सरकारी और अर्धसरकारी संस्थाओं को हर प्रशिक्षण सत्र के लिए पांच सौ रुपये और गैर-सरकारी संस्थाओं को एक हजार रुपये देने होंगे। भूतल पर आगंतुक कक्ष के अलावा किसान सूचना व सलाहकार केंद्र मिट्टी जांच प्रयोगशाला बनाया जाएगा। इसके साथ ही पौधा संरक्षण केंद्र और किसान सलाहकार व कृषि समन्वयकों के कार्यालय इसी तल पर होंगे।

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

    Post a Comment

    0 Comments