किसानों के लिए खुशखबरी , सोलर एनर्जी से चलने वाले छोटे कोल्ड स्टोरेज की बनेगी पूरी श्रृंखला



 उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र के किसानों को बहुत जल्द बड़ी  सौगात मिलने वाली है. अब उन्हें अपनी उपज को सुरक्षित रखने के लिए महंगे या बड़े-बड़े कोल्ड स्टोरेज के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे. कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य निर्यात उत्पाद विकास प्राधिकरण ( एपीडा ) को आईएआरआई पूसा ने सोलर एनर्जी से चलने वाले छोटे कोल्ड स्टोरेज की पूरी श्रृंखला बनाने की तैयारी कर रहे हैं. इसका खर्च बहुत कम होगा और छोटे किसानों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है.


घर पर लगाए जाने वाले इस कोल्ड स्टोरेज का नाम पूसा सनफ्रिज है. जैसा कि नाम से जाहिर है कि यह कोल्ड स्टोरेज एक फ्रिज की तरह काम करेगा जिसे सौर ऊर्जा पर चलाया जा सकेगा. इंडियन एग्रीकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट (IARI) की प्रधान वैज्ञानिक संगीता चोपड़ा ने इस सनफ्रिज का इजाद किया है जिसकी संगीता चोपड़ा ने पूसा फार्म सनफ्रिज का निर्माण किया है जो कोल्ड स्टोरेज की तरह काम करता है.



तीन लाख रुपए तक आएगा खर्च

पूर्वांचल में इस कोल्ड स्टोरेज को बनाने की जिम्मेदारी कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य निर्यात उत्पाद विकास प्राधिकरण (एपीडा) को दिया गया है. इसे बनाने में खर्च लगभग तीन लाख रुपए आएगा जो सामान्य कोल्ड स्टोरेज की तुलना में बहुत कम है. इसका उपयोगा कैसे होगा, किसानों को इसके लिए ट्रेनिंग भी दी जाएगी. इस सनफ्रीज को जमीन के बहुत छोटे से हिस्से में ही तैयार किया जा सकता है और भंडारण की क्षमता के मुताबिक बढ़ाया जा सकता है. फिलहाल वाराणसी और गाजीपुर के किसानों के साथ इसका ट्रायल होने जा रहा है.


फ्रिज की तरह काम करेगा यह कोल्ड स्टोरेज

किसानों के लिए कोल्ड स्टोरेज की समस्या बड़ी है, खासकर सब्जी और फल उगाने वालों के लिए. अपनी फल-सब्जी को किसी कोल्ड स्टोरेज को किराये पर रखना होता है या औने-पौने दामों पर उसे बेचना होता है. कोल्ड स्टोरेज ज्यादातर सरकारी या प्राइवेट कंपनियों के हैं जिसमें भंडारण के लिए किसानों को अतिरिक्त खर्च करना पड़ता है. अब इस समस्या से निजात मिलेगी दिख रही है क्योंकि पूसा स्थित IARI की एक वैज्ञानिक ने ऐसा कोल्ड स्टोर बनाया है जो बिना बिजली या बैट्री के चलेगा. कोई किसान आसानी से अपने घर पर इसे लगा सकेगा.


कैसे करता है काम

यह ऐसा कोल्ड स्टोर है जो सिर्फ और सिर्फ धूप या सौर ऊर्जा से चलता है. बाहर जितनी धूप तेजी होगी, अंदर उतना ही कमरा ठंडा होगा और रेफ्रिजरेशन का काम भी तेज करेगा. इस कोल्ड स्टोर में दिन में तापमान 3-4 डिग्री तक रहता है. इसकी खासियत है कि इसे चलाने के लिए बिजली की जरूरत नहीं होती, न ही किसी केमिकट बैट्री की. इसे चलाने के लिए पानी की बैट्री बनाई गई है जो सिर्फ पानी पर चलती है और रात में जब धूप नहीं होती तो कोल्ड स्टोर को ऊर्जा देती है.


सोलर पैनल से मिलेगी ऊर्जा

कोल्ड स्टोर की छत पीवीसी पाइपों से बनी है जिसमें पानी डलता है. किसानों के लिए यह पाइप सुलभ है क्योंकि इसकी कीमत भी कम होती है. किसानों को इस पर ज्यादा पैसा खर्च करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. पीवीसी पाइप के जरिये पानी की बैट्री बनाई जाती है जो रात को कमरे को ठंडा रखती है. दरअसल, इसमें जो रेफ्रिजरेंट लगा है वह 75 परसेंट पानी को ठंडा करता है और 25 परसेंट उसे हवा ठंडा करती है. छत पर सोलर पैनल लगे हैं और बाहरी दीवार को कपड़े और थर्मोकोल से बनाया गया है.

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

    Post a Comment

    0 Comments