घर में लगाएं ये एक पौधा, चुंबक की तरह खींच लाएगा धन-`

घर में लगाएं ये एक पौधा, चुंबक की तरह खींच लाएगा धन-`



दुनिया में हर चीज ऊर्जा से जुड़ी होती है और हमारे आस-पास की ऊर्जा का असर हमारे जीवन पर भी पड़ता है. वास्तुशास्त्र में कई ऐसे उपाय बताए गए हैं जिनसे घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है और सुख-समृद्धि और शांति कायम रहती है. वास्तु में हर एक पौधे का अपना महत्व होता है. कुछ पौधे घर से नकारात्मक ऊर्जा दूर करते हैं तो कुछ ऐसे पौधे होते हैं जिन्हें लगाने से घर में धन की कभी कमी नहीं होती है. घर में लगाएं ये एक पौधा, चुंबक की तरह खींच लाएगा धन

ज्यादातर लोग धन के लिए मनी प्लांट लगाने के बारे में ही जानते हैं लेकिन वास्तु में धन प्राप्ति के लिए एक अन्य पौधे के बारे में बताया गया है. इसे क्रासुला का पौधा कहते हैं. 

सही दिशा में लगाना जरूरी

इसका पूरा नाम क्रासुला ओवाटा (Crassula Ovata) है. इसे जेड ट्री (Jade Tree), फ्रेंडशिप ट्री (Friendship Tree), लकी ट्री (Lucky Tree) और मनी ट्री (Money Tree) के नाम से भी जाना जाता है. वास्तु में क्रासुला के पौधे को धन प्राप्ति का पौधा भी कहा जाता है. क्रासुला का पौधा लगाने की भी एक सही दिशा होती है क्योंकि गलत दिशा में लगाया गया ये पौधा धन लाभ की बजाय धन हानि भी करा सकता है.

क्रासुला की पत्तियां मोटी होती हैं लेकिन बहुत मुलायम होती हैं. ये पौधा बहुत तेजी से फैलता है. इसकी पत्तियां हल्की हरी और हल्की पीली होती हैं. इस पौधे को ज्यादा धूप की जरूरत नहीं पड़ती है. ये छांव में भी बढ़ता जाता है. बसंत-ऋतु में इसमें तारेनुमा छोटे सफेद या गुलाबी फूल खिलते हैं जो देखने में बहुत ही सुंदर लगते हैं.

ज्यादा देखभाल की जरूरत नहीं

क्रासुला का पौधा दिखने में भी सुंदर लगता है. इसकी पत्तियां बहुत मजबूत और लचीली होती हैं. इसलिए ये छूने से ना तो टूटती हैं और ना ही मुड़ती हैं. क्रासुला के पौधे को ज्यादा देखभाल की भी जरूरत नहीं पड़ती है इसलिए इसे आसानी से अपने घर में लगा सकते हैं.

जल्दी नहीं सूखता

इस पौधे की सबसे अच्छी बात ये है कि ये जल्दी नहीं सूखता है. इसे हफ्ते में दो या तीन बार पानी देना ही काफी है. ये पौधा बहुत ज्यादा जगह नहीं लेता है इसलिए इसे एक छोटे से गमले में भी लगाया जा सकता है. 

जल्दी नहीं सूखता

अगर आप हफ्ते में दो या तीन बार भी इसे पानी दे देते हैं तो यह सूखता नहीं है. साथ ही इसके लिए बहुत ज्यादा जगह की भी आवश्यकता नहीं होती, एक छोटे से गमले में इसे लगाया जा सकता है. छांव में भी अपने आपको यह पौधा पाल लेता है.

क्रासुला की सही दिशा

वास्तु के अनुसार, क्रासुला का पौधा लगाते समय दिशा का बहुत ध्यान देना चाहिए. ये पौधा घर के प्रवेश द्वार की दाहिनी तरफ रखना चाहिए.

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

     

    Post a Comment

    0 Comments