निर्माण के दौरान ही 742 करोड़ 51 लाख के चार पुल हुए खराब, दोषी अफसरों पर कोई कार्रवाई भी नहीं

 

निर्माण के दौरान ही 742 करोड़ 51 लाख के चार पुल हुए खराब, दोषी अफसरों पर कोई कार्रवाई भी नहीं


देश में ऐसा कहीं भी नहीं हुआ जब निर्माण के दौरान ही सरकार के भारी भरकम बजट वाले प्रोजेक्ट के चार पुल डैमेज हो गए। भ्रष्टाचार की इस कहानी में डैमेज होने की समानता एप्रोच रोड की मिट्टी फिलिंग सही नहीं होना बताया गया है। एनएचएआई बिलासपुर सरगांव प्रोजेक्ट के 473 करोड़ रुपए और अकलतरा मार्ग में मुरलीडीह गांव के पास बना एनएच 49 का 269.51 करोड़ का पुल खराब होने में जितनी जिम्मेदारी बनाने वाले ठेकेदारों की थी उतनी मॉनिटरिंग करने वाले अफसरों की भी लेकिन नेशनल हाइवे और नेशनल अथॉरिटी ऑफ इंडिया दोनों ने ही किसी भी अफसर पर तीन साल में कोई कार्रवाई नहीं की अलबत्ता उच्च अफसर कार्रवाई का आश्वासन जरूर देते रहे।


हर काम पर ओके रिपोर्ट देने वाले अफसरों को क्यों बख्शा गया इन सभी मामलों में एनएच और एनएचएआई के उच्च अफसर कहते हैं कि ठेकेदार पर जुर्माना किया गया और उसे सही करने की जिम्मेदारी भी उसी की है लेकिन क्या ईमानदारी की यह कार्रवाई काफी थी? दरअसल पुल के हर प्रोसेस में मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी अफसरों की थी। हर प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के पहले ओके रिपोर्ट देने वाले यही अफसर थे लेकिन अफसरों को अब तक बचाया जा रहा। एनएचएआई के छत्तीसगढ़ प्रभारी जीएम संजीव शर्मा के मुताबिक जांच प्रक्रिया चल रही है लेकिन तीन साल से यह जांच प्रक्रिया का अंत कब होगा इसका जवाब वे नहीं दे सके।


पेंड्रीडीह पुल एनएचएआई का पेंड्रीडीह पुल मोहभट्ठा पुल से भी अधिक खराब स्थिति में था। यह एप्रोच रोड के साथ ही पुल के बीच हिस्से में भी डैमेज हो गया था। निर्माण के बाद से ही सामने आई खराबियों को तब पुल की नीचे से खोदकर मरम्मत की गई। बात नहीं बनने पर दोबारा उसे 100 मीटर फिर से नया बनाया जा रहा है।


अकलतरा मार्ग पर मुरलीडीह पुल नेशनल हाइवे 49 के मार्ग पर मुरलीडीह गांव में बने इस पुल के एप्रोच रोड की भी मिट्टी फिलिंग सही नहीं होने की खराबी आई थी। पुल की एप्रोच रोड को फिर से खोदकर नए सिरे से बनाया गया। ढाई किलोमीटर के इस पुल को बनने में छह माह से भी अधिक समय लग गया।.


भोजपुरी पुल के 37 ब्लॉक उखड़े एनएचएआई के इस पुल की भी दूसरे पुलों के समान कहानी है। पुल तो बना लेकिन मानिटरिंग नहीं होने से एप्रोच रोड की दीवारों पर लगे ब्लॉक उखड़ने लगे। एनएचएआई उन ब्लॉकों को फिर से लगा रहा है। भ्रष्टाचार की यह लीपापोती से पुल कितने दिन सुरक्षित रहेगा कोई नहीं बता सकता।


मोहभट्ठा पुल एनएचएआई के इस पुल के पिलर के पास से ही कनेक्टिंग एप्रोच रोड की मिट्टी बैठ गई थी। एप्रोच रोड इतना डैमेज हुआ कि आवागमन संभव नहीं था। वर्ष 2019 में एप्रोच रोड को फिर से बनाया गया। तब तत्कालीन अफसरों ने मिट्टी फिलिंग सही नहीं होने की वजह बताया। पुल बनने के बाद अब स्थिति सही है।


जिम्मेदारों ने बहाने से टाल दिया जवाब एनएचएआई के वर्तमान प्रोजेक्ट डायरेक्ट एके ढाल ने कहा कि भोजपुरी के पास बने पुल के एप्रोच रोड की मरम्मत की जा रही है। इससे ज्यादा मैं कुछ नहीं बता सकता। अभी मै मीटिंग में हूं। इसी तरह अकलतरा पुल के संबंध में नेशनल हाइवे की कार्यपालन अभियंता ममता पटेल ने कहा कि यह मामला उनके पूर्व का है लेकिन जब यह कहा गया कि संज्ञान देने के बाद भी तत्कालीन अफसरों पर जांच से पीछे क्यों हट रही है। तब उन्होंने कहा कि जांच का विषय हायर अथॉरिटी का है।


जानिए प्रोजेक्ट में कितने रुपए लगे


बिलासपुर सरगांव प्रोजेक्ट बिलासपुर से सरगांव


लंबाई-35.50 किमी

प्रोजेक्ट- 4 लेन

निर्माण अवधि-2 साल

लागत-473 करोड़

एनएच 49 का अकलतरा प्रोजेक्ट बिलासपुर से अकलतरा


लंबाई-51 किलोमीटर

प्रोजेक्ट-4 लेन

निर्माण अवधि-3 साल

लागत- 269.51 करोड़

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

    Post a Comment

    0 Comments