100 करोड़ रुपये का गोबर खरीदकर किसानों की मदद कर रही है ये सरकार, जानिए स्कीम से कैसे मिलता है फायदा

 


छत्तीसगढ़ में गौशालाओं को आत्मनिर्भर बनाने और वहां पर आर्थिक गतिविधियां बढ़ाने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार गोबर की खरीद कर रही है. खरीदे हुए गोबर का इस्तेमाल कृषि कार्यों के लिए खाद बनाने से लेकर वर्मी कंपोस्ट तैयार किया जाएगा. इतना ही नहीं गोबर से बिजली उत्पादन की संभावानाओं पर भी विचार किया जा रहा है. राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि गोबर के विभिन्न कार्यों में इस्तेमाल की योजना बनाते हुए सरकार गोबर खरीद रही है. इसी के साथ छत्तीसगढ़ गोबर खरीदी करने वाला देश का पहला राज्य होने के साथ-साथ गोबर खरीदी को लाभ में बदलने वाला पहला राज्य भी बन गया है.


गौठान समितियों को 5 करोड़ 33 लाख रूपए की राशि ट्रांसफर

मुख्यमंत्री गोधन न्याय योजना के अंतर्गत गोबर बेचने वाले पशुपालकों एवं संग्राहकों को गोबर खरीदी के एवज में राशि, महिला स्व-सहायता समूहों को लाभांश की राशि और गौठान समितियों को 5 करोड़ 33 लाख रूपए की राशि ट्रांसफर करने के बाद कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा प्रदेश को गौठानों को और मजबूत बनाया जाएगा.



गोबर से बिजली उत्पादन की संभावनाओं का अध्ययन किया जाएगा

मुख्यमंत्री ने बताया कि गोबर से वर्मी कम्पोस्ट तैयार किया जाएगा, ताकि इसके इस्तेमाल को और अधिक बढ़ावा मिले. इस दिशा में काम किये जाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि गोबर से बिजली उत्पादन की संभावनाओं का अध्ययन किया जाएगा. इससे राज्य की गौशालाएं चारा के मामले में स्वावलंबी हो जाएंगी और वहां पर आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी इसका प्रयास किया जा रहा है. मुख्यमंत्री  ने कहा कि प्रदेश में गौठानों (गौशाला) के प्रति लोगों का रुझान बढ़ रहा है, गौठानों को और अधिक मजबूत बनाया जाना चाहिए. उन्होंने जिला  कलेक्टर को कहा कि वो  गौठानों के संधारण, मरम्मत और निर्माण कार्यों की जरूरत की लगातार समीक्षा करें और जरुरत के मुताबिक कार्य कराते रहें.


100 करोड़ 82 लाख रूपए की गोबर खरीद चुकी है सरकार

इस मौके पर  मुख्यमंत्री ने गोधन न्याय योजना के अंतर्गत पशुपालकों एवं संग्राहकों के खाते में खरीदे गये किए गए गोबर के बदले में 27वीं किश्त के रूप में 1 करोड़ 74 लाख रूपए की राशि ऑनलाईन ट्रांसफर की. बता दे कि छत्तीसगढ़ सरकार अब तक पशुपालकों और संग्राहकों से 100 करोड़ 82 लाख रूपए की गोबर खरीद चुकी है.


स्वयं सहायता समूहों के बीच राशि का भुगतान

कारयक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने स्व-सहायता समूहों को लाभांश के रूप में 1 करोड़ 41 लाख रूपए तथा गौठान समितियों को 2 करोड़ 18 लाख रूपए की राशि वितरित की. इसी के साथ बताया गयी कि स्व-सहायता समूहों को अब तक लाभांश की राशि के रूप में कुल 21 करोड़ 42 लाख रूपए तथा गौठान समितियों को 32 करोड़ 94 लाख रूपए की राशि का भुगतान किया जा चुका है. स्व-सहायता समूहों और गौठान समितियों को अब तक कुल 54 करोड़ 36 लाख रूपए की राशि का भुगतान किया गया है. गोधन न्याय योजना से 1 लाख 74 हजार से अधिक पशुपालक और संग्राहक लाभान्वित हुए हैं. राज्य सरकार अब तक 50 लाख क्विंटल गोबर की खरीदी कर चुकी है.

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

    Post a Comment

    0 Comments