बिहार में होगा CM नीतीश का तख्तापलट और विदाई, इतिहास दोहराने को बेकरार है JDU

 बिहार की राजनीति में सबकुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा। जदयू में जिस तरह से सीएम नीतीश कुमार को साइड कर दिया गया है, उससे भविष्य की राजनीति में बहुत बड़ा बदलाव दिखने को मिल सकता है। मोदी कैबिनेट विस्तार के बाद से ही यह कहा जा रहा है कि सीएम नीतीश से पूछे बिना आरसीपी सिंह ने मंत्री पद का एक सीट स्वीकार कर लिया।

कहते हैं इतिहास दोहराता है. जी हां! इस बात की चर्चा बिहार के राजनीतिक हलके में हो रही है. यह चर्चा मोदी मंत्रिमंडल विस्तार (Modi Cabinet Expansion) के बाद से शुरू हुई है. कहा जा रहा है कि क्या JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह (RCP Singh) नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की मर्जी के बगैर मोदी मंत्रिमंडल में शामिल हो गए हैं. अगर नहीं तो अभी तक नीतीश कुमार ने एक भी बधाई का संदेश सोशल मीडिया के जरिए मंत्रिमंडल विस्तार पर क्यूं नहीं दिया. वो भी तब जब JDU मंत्रिमंडल में शामिल हो चुकी है. सवाल इसीलिए उठ रहा है कि क्या JDU का इतिहास एक बार फिर से दोहराया जा रहा है.



दरअसल, कैबिनेट के विस्तार में JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह का मंत्री पद की शपथ लेना भी एक बड़ा संदेश देता है. वो भी तब जब जिनके ऊपर पार्टी ने पूरी ज़िम्मेदारी सौंपी थी. जाने माने वरिष्ठ पत्रकार अरुण पांडे कहते हैं कि राजनीति में जब आपको पावर मिलता है तो सत्ता की महक आपको परेशान करने लगती है. 2015 में जब राजद और JDU ने मिलकर चुनाव लड़ा और बिहार की सत्ता पर भाजपा को हराकर कब्जा किया था, उस वक़्त JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव हुआ करते थे. महागठबंधन की सरकार बनने के कुछ महीने बाद ही शरद यादव लालू यादव के नज़दीकी होते चले गए और नीतीश कुमार की तल्खी लालू यादव के साथ बढ़ती चली गई.


एक समय ऐसा भी आया जब नीतीश कुमार ने लालू यादव का साथ छोड़ भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाने की बात JDU में उठाई. तब शरद यादव ने इस बात का कड़ा विरोध किया, लेकिन तब नीतीश कुमार ने शरद यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी से हटने पर मजबूर कर दिया और खुद JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गए. फिर कुछ दिन के बाद भाजपा की मदद से बिहार में NDA की सरकार बना मुख्यमंत्री भी बन गए.


2020 में नीतीश कुमार ने काम का बोझ बढ़ने का हवाला देकर राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी ख़ाली कर अपनी जगह अपने करीबी और स्वजातीय आरसीपी सिंह को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनवा दिया. आरसीपी सिंह जो 2019 में मोदी मंत्रिमंडल में मंत्री बनते बनते रह गए थे. जब शपथ के दिन उन्हें भोज के लिए आमंत्रित किया गया था, लेकिन तब मात्र एक सीट मिलने की वजह से नीतीश कुमार ये तय नहीं कर पा रहे थे कि किसे भेजें. ललन सिंह को या आरसीपी सिंह को. क्योंकि नीतीश कुमार के लिए दोनों ख़ास थे और नीतीश किसी भी एक को नाराज़ नहीं करना चाहते थे.


इस बार भी जब मोदी मंत्रिमंडल की चर्चा शुरू हुई तो बीजेपी से बातचीत के लिए नीतीश कुमार ने JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को अधिकृत कर दिया. इस बार आर सी पी सिंह खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष थे और वो पूरी तरह अधिकृत थे कि फ़ैसला क्या लेना है. बातचीत शुरू हुई और बात फिर से वहीं आकर फंस गई कि JDU को एक से ज़्यादा सीट नहीं मिलेगी. इस बार आरसीपी सिंह ने कोई रिस्क नहीं लिया और उन्होंने तय कर लिया कि इस बार एक अगर कोई बनेगा तो वही बनेंगे. भले ही नीतीश कुमार के 2019 में आनुपातिक प्रतिनिधित्व का हवाला दें.


इस सवाल पर कि क्या आरसीपी सिंह का फ़ैसला JDU के लिए सही है, इस सवाल पर JDU के वरिष्ठ नेता उपेन्द्र कुशवाहा कहते हैं कि वो राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और जो भी फ़ैसला है उनका है. वहीं ललन सिंह के मंत्री नहीं बनाए जाने के सवाल पर कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है, लेकिन नीतीश कुमार ने अभी तक बधाई क्यूं नहीं दी इस पर उन्होंने कहा कि बधाई देने के कई तरिके होते हैं.

ये खबरें भी पढ़ें

  • रेलवे ने रातों रात लिया बड़ा फैसला, आज से 8 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,


    Post a Comment

    Previous Post Next Post