बिहार मौसम: कोसी, सीमांचल और पूर्वी बिहार में जारी है बारिश, वज्रपात से दो की मौत, नदियों का जलस्तर बढ़ा

Heavy rains expected in Uttar Pradesh


कोसी, सीमांचल और पूर्वी बिहार के जिलों में बुधवार को भी दिन भर बादल छाये रहे। कभी बूंदाबांदी तो कभी झमाझम बारिश होती रही। जमुई और बांका जिले में बारिश के दौरान हुए वज्रपात से दो लोगों की मौत हो गयी। बारिश से नदियों के जलस्तर में मामूली वृद्धि दर्ज की गई है।

बारिश के दौरान जमुई जिले के खैरा की अरनमाबांक पंचायत के चितवार गांव में एक चरवाहे की मौत हो गयी। चितवार निवासी निर्मल यादव घर के समीप खेत में पशु चराने के दौरान ठनका की चपेट में आ गया। वहीं बांका जिले के बाराहाट प्रखंड के चंगेरी गांव में बुधवार शाम अचानक हुए बारिश के दौरान वज्रपात की चपेट में आकर एक महिला की मौत हो गई। 

महिला गिरीश मंडल की पत्नी उमा देवी (40) मवेशियों को चारा देने खेत की ओर गई हुई थी। इसी दौरान वज्रपात की चपेट में आ गई। बारिश से नदियों का जलस्तर भी बढ़ा है। कटिहार में महानंदा बाढ़ नियंत्रण अंचल के अधीक्षण अभियंता गोपाल चंद्र मिश्र ने बताया कि गंगा नदी का जलस्तर में 27 सेंटीमीटर की वृद्धि दर्ज की गई है। जबकि महानंदा नदी का जलस्तर कहीं बढ़ रहा है तो कहीं घट रहा है।

बरंडी और कोसी नदी का जलस्तर स्थिर है। वहीं अररिया जिले में नदियों का जलस्तर सामान्य है। दुरारदयी, फरियानी व बिलनिया में मामूली एक सेमी की वृद्धि हुई। लेकिन यह भी खतरे के निशान से काफी नीचे है। पूर्णिया जिले में भी नदियों का जलस्तर सामान्य है। महानंदा नदी खतरे के निशान से 3 मीटर से भी नीचे है। सहरसा, सुपौल और मधेपुरा जिले में कोसी नदी का जलस्तर सामान्य है जबकि खगड़िया जिले कोसी में 24 व बागमती नदी में 9 सेंटीमीटर की वृद्धि दर्ज की गई।


Post a Comment

Previous Post Next Post