‘ये कोरोना चल रहा है, पैसे किसी काम के नहीं है’, ये बात कहकर पुल से पैसे उड़ाने लगा ये शख्स………




कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर के दौरान पूरे देश के हालात काफी नाजुक बने हुए हैं. अस्पतालों में लोग जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं तो घरों में बंद लोग भविष्य को बचाने के जतन करते हुए नजर आ रहे हैं. इस दौरान बहुत से लोग मानसिक तनाव की समस्या का सामना कर रहे हैं. ऐसा ही कुछ गुजरात के भरूच (Bharuch, Gujarat) में देखने को मिला, जहां एक शख्स एक ब्रिज पर खड़े होकर अपने पैसे फेंकते हुए और फिर ब्रिज से कूदने की कोशिश करता हुआ नजर आया. इस दौरान उसे ये कहते हुए सुना गया कि “कोरोना काल में ये पैसा किसी काम का नहीं.”

अंकलेश्वर में अचानक ब्रिज पर पहुंचे एक शख्स ने अपनी जेब से पैसे निकालकर फेंकना और उड़ाना शुरू कर दिया

आसपास मौजूद लोगों की तो पहले कुछ समझ ही नहीं आया कि वह कर क्या रहा है और क्यों कर रहा है. उसकी ये हरकत देखकर मौके पर और भी लोग जमा होने लगे. लोग उसे ऐसा करते हुए देखते रहे, लेकिन तभी अचानक वह व्यक्ति ब्रिज की बाउंड्री पर चढ़ गया और वहां से कूदकर जान देने की कोशिश करने लगा. ये देखते ही आसपास खड़े लोग तुरंत उसकी ओर दौड़े और उसे पकड़कर पीछे खींच लिया और ब्रिज से उतार लिया.

घटना का वीडियो हुआ सोशल मीडिया पर वायरल

वहीं, उन्हीं लोगों में से एक ने इस घटना का वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया. अब ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. इस वीडियो में ब्रिज पर खड़े शख्स को ये कहते हुए साफ सुना जा सकता है कि “कोरोना चल रहा है इसलिए ये पैसा किसी काम का नहीं है”. लोगों ने ये भी बताया कि वह शख्स मानसिक तनाव से पीड़ित है, जिसके चलते ही उसने ये हरकत की. लोगों ने उसे ब्रिज से उतारकर अच्छे से समझाया और उसे शांत कराया.

कोरोना को काबू में करने के लिए हो रहे हर प्रयास

देश में कोरोना का कहर जारी है, जिसके चलते देश का हेल्थ सिस्टम भी चरमरा गया है. इस साल कोरोना की आई नई लहर में संक्रमण के नए मामलों के बढ़ने की दर काफी ज्यादा है और रोजाना सामने आने वाले आंकड़े अब डराने लगे हैं. हालांकि, इस बीच कोरोना संक्रमण के दौरान पैदा हुए हालात को काबू करने के लिए सरकार की तरफ से हरसभंव प्रयास किए जा रहे हैं और इस मुश्किल घड़ी में भारत को दुनियाभर के कई देशों से भी लगातार मदद भी मिल रही है.

Post a Comment

Previous Post Next Post