आईपीएल वालों को करो बाहर, इंग्लैंड टीम को छोड़ लीग खेलने पर बरसे पूर्व कप्तान माइकल वॉन




इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड को अपनी ताकत पहचानने और ऐसे खिलाडि़यों को गुडबाय कहने को कहा है, जिन्होंने राष्ट्रीय टीम पर फ्रेंचाइजी क्रिकेट को तरजीह दी है। इंग्लैंड के अखबार द टेलिग्राफ में लिखे अपने कॉलम में वॉन ने ईसीबी के डायरेक्टर ऐश्ले जाइल्स के उस हालिया इंटरव्यू का जिक्र किया है, जिसमें जाइल्स ने खिलाडि़यों ने राष्ट्रीय ड्यूटी को छोड़कर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में खेलने का डर जाहिर किया था। वॉन ने कहा कि ऐश्ले जाइल्स ने मुझे बीबीसी के मेरे शो पर कहा था कि इंग्लैंड आईपीएल को लेकर खिलाडि़यों के साथ बहुत ज्यादा उलझना नहीं चाहता, क्योंकि लंबे वक्त में उन्हें अपने कुछ बड़े खिलाडि़यों को खोने का डर है। वॉन ने आगे कहा कि मुझे लगता है कि यह एक गलत संदेश देता है।


अगर एक इंग्लैंड का 26-27 साल का खिलाड़ी मेरे पास आकर कहता है कि वह इंग्लैंड के सेंट्रल कांटै्रक्ट को छोड़कर आईपीएल और फ्रेंचाइजी क्रिकेट चुन रहा है, तो मेरा जवाब सिंपल होता कि जाओ फिर, बाद में मिलते हैं, गुडबाय, लेकिन एक बात बताऊं। मैं शर्त लगाकर कह सकता हूं कि तुम एक दो साल के वक्त में लौटकर आओगे। माइकल वॉन ने इसे रोकने के लिए रास्ते भी सुझाए। उनका कहना है कि ईसीबी को बेन स्टोक्स और जोफ्रा आर्चर जैसे खिलाडि़यों के केंद्रीय अनुबंध कुछ साल के लिए बढ़ा देने चाहिए। वॉन ने कहा कि अगर इंग्लैंड वाकई चाहता है कि ऐसी स्थिति न हो तो अपने बेस्ट प्लेयर्स को दो या तीन साल का केंद्रीय अनुबंध क्यों नहीं देता? उच्च-स्तरीय खेल के लिए जरूरी है कि आप अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाडि़यों का ख्याल रखे तो बेन स्टोक्स और जोफ्रा आर्र को एक साल से अधिक का अनुबंध क्यों नहीं दिया जा सकता।


Post a Comment

Previous Post Next Post