तूफानी राहुल देखने को रहें तैयार, आईपीएल 2021 के लिए पंजाब किंग्स के कोच वसीम जाफर का दावा




पंजाब किंग्स के बल्लेबाजी कोच वसीम जाफर ने कहा है कि आईपीएल 2021 में निश्चित रूप से सभी आक्रामक लोकेश राहुल को खेलते देखेंगे। जाफर ने कहा कि राहुल ने पिछले सत्र में थोड़ा भयभीत तरीके से बल्लेबाजी की थी, क्योंकि टीम के पास पांच नंबर के बाद ज्यादा बल्लेबाजी नहीं थी और ग्लेन मैक्सवेल भी हिटिंग नहीं कर पा रहे थे। ऐसे में राहुल ने खुद को क्रीज पर टिके रहने और टीम को संभालने की जिम्मेदारी सौंपी। सही मायने में राहुल पंजाब किंग्स के लिए तीन आयामी खिलाड़ी हैं, क्योंकि टीम के कप्तान होने के साथ-साथ एक सलामी बल्लेबाज और विकेटकीपर भी हैं। इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 शृंखला के बाद वनडे सीरीज में उनकी वापसी पंजाब किंग्स के लिए अच्छा संकेत है, हालांकि उन्हें पांच टी-20 मुकाबलों में से चार में विफल रहने के लिए काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था, लेकिन तीन मैचों की वनडे सीरीज में उन्होंने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया था।


जाफर ने कहा कि यह किसी भी खिलाड़ी के साथ हो सकता है। उन्होंने जैसे-जैसे ज्यादा मुकाबले खेले वैसे-वैसे वह और बेहतर होते गए। हाँ, उनकी टी-20 शृंखला खराब रही, लेकिन इससे वह खराब बल्लेबाज नहीं हो जाते। उन्होंने क्रिकेट के तीनों प्रारूपों (वनडे, टी-20, टेस्ट) में शतक बनाए हैं और वह किसी भी खिलाड़ी के मुकाबले अपने खेल को अच्छी तरह से जानते हैं। इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में उन्होंने दिखाया कि वह इतने खास खिलाड़ी क्यों हैं। उन्होंने टीम की मजबूती के बारे में कहा कि पिछले वर्ष की तुलना में इस बार हमारी बहुत अधिक संतुलित टीम है। हमारे पास ऐसे गेंदबाजों की कमी थी जो मोहम्मद शामी का साथ दे पाएं और झाई रिचर्डसन और रिले मेरेडिथ के रूप में हमें दो ऐसे गेंदबाज मिले हैं जो यह जिम्मेदारी बखूबी निभा सकते हैं।

शमी बोले, कौशल-अनुभव और प्रदर्शन पर टिकी सिलेक्शन

क्रिकेट के मैदान पर एक्शन में लौटने और आईपीएल में पंजाब किंग्स का प्रतिनिधित्व करने को तैयार अनुभवी भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने कहा है कि राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए हाल के समय में प्रतिस्पर्धा बढ़ने से उनके ऊपर कोई दबाव नहीं पड़ा है. दाएं हाथ के तेज गेंदबाज शमी 19 दिसंबर से ही क्रिकेट से दूर हैं, जब उन्हें एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट मैच के तीसरे दिन चोट लग गई थी। शमी ने गुरुवार को कहा कि आपका चयन आपके कौशल, अनुभव और प्रदर्शन पर निर्भर करता है। सभी चीजें अलग हैं। यदि स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप खुद पर से अपना विश्वास खो दें। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि प्रतिस्पर्धा दबाव बनती है या किसी को निर्थक बना देती है। प्रत्येक खिलाड़ी के कौशल अलग-अलग होते हैं, टीम में उनकी अलग-अलग भूमिकाएं होती है। हम अपने बारे में नहीं सोचते, हमें देश के बारे में सोचना होगा, जो कोई भी (किसी भी स्थिति या मैच के लिए) सर्वश्रेष्ठ है, उन्हें चुना जाता है।

Post a Comment

0 Comments