सिर्फ 9 मैचों में ले डाले 65 विकेट, इस पाकिस्तानी गेंदबाज ने बल्‍लेबाजों की परेड करा दी, मचाई खलबली



पाकिस्तान में एक से बढ़कर एक तेज गेंदबाज रहे हैं. सरफराज नवाज से लेकर इमरान खान, वकार यूनिस, वसीम अकरम, शोएब अख्तर तो कुछ चुनिंदा नाम हैं. लेकिन पिछले कुछ सालों में एक के बाद एक कई तेज गेंदबाज आए लेकिन वे लंबे समय तक टिक नहीं पाए. ऐसा ही एक नाम है सोहैल खान. साल 2009 में वे पाकिस्तानी टीम में आए थे. यह एंट्री उन्हें नौ फर्स्ट क्लास मैच में 65 विकेट के जरिए मिली थी. सोहैल का इंटरनेशनल क्रिकेट सात साल चला. इसमें उन्होंने तीनों फॉर्मेट में मिलकर 27 मैच खेले और 51 विकेट लिए. सोहैल खान (Sohail Khan) का आज जन्मदिन है. 6 मार्च 1984 को नॉर्थ-वेस्ट फ्रंटियर प्रॉविंस में उनका जन्म हुआ. लेकिन फिर वे कराची में बस गए और यहां पर राशिद लतीफ क्रिकेट एकेडमी में उन्होंने खुद को मांजा.

2007-08 के सीजन में सुई सदर्न गैस कॉर्पोरेशन के लिए खेलते हुए सोहैल की गेंदों ने बल्लेबाजों को चकरी बनाया. उन्होंने नौ मैच में ही 65 विकेट ले डाले. सोहैल ने आठ बार एक पारी में पांच-पांच विकेट लिए. दो बार एक मैच में 10-10 विकेट लिए. इस दौरान 189 रन देकर 16 विकेट उनका बेस्ट प्रदर्शन रहा. यह फर्स्ट क्लास क्रिकेट में किसी भी पाकिस्तानी का सबसे अच्छा प्रदर्शन है. सोहैल ने फजल महमूद के 76 रन पर 15 विकेट के रिकॉर्ड को तोड़ा. इसके चलते 2009 में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में उन्हें चुना गया. कराची में उनका डेब्यू हुआ लेकिन उन्हें कोई विकेट नहीं मिला. फिर टेस्ट सीरीज के दौरान भयंकर हादसा हुआ. लाहौर में आतंकियों ने श्रीलंकन टीम पर हमला कर दिया. इसके चलते सीरीज रद्द गई. फिर करीब 10 साल तक पाकिस्तान में कोई टेस्ट सीरीज नहीं हुई.
दो साल बाद खेला दूसरा टेस्ट

डेब्यू सीरीज के बाद सोहैल को अगले टेस्ट के लिए करीब दो साल तक इंतजार करना पड़ा. 2011 में जिम्बाब्बे के खिलाफ उन्होंने दूसरा टेस्ट खेला और एक विकेट लिया. फिर पांच साल तक तीसरे टेस्ट का इंतजार किया. तीसरी बार टेस्ट में आने पर सोहैल ने अच्छा खेल दिखाया. उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ लगातार दो टेस्ट में पांच-पांच विकेट लिए. 2016 में उन्होंने फिर वेस्ट इंडीज, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट खेले लेकिन प्रदर्शन कमजोर रहा. ऐसे में वे कभी टेस्ट नहीं खेल पाए. उन्होंने नौ टेस्ट में 27 विकेट लिए.
ऐसा रहा वनडे और टी20 करियर

टेस्ट डेब्यू से सालभर पहले उन्होंने जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे डेब्यू किया. इस मैच में उन्हें एक विकेट मिला था. सोहैल ने 13 वनडे खेले और 19 विकेट लिए. उनका वनडे करियर भी टेस्ट जैसा ही रहा. 2008 में डेब्यू के बाद 2011 तक उन्होंने केवल पांच वनडे खेले. 2011 के बाद 2015 में उन्हें फिर से टीम में लिया गया. इसी तरह की कहानी टी20 में भी रही. अक्टूबर 2008 में उनका डेब्यू हुआ. फिर दूसरा टी20 2011 में खेला. इस फॉर्मेट में सोहैल को पांच विकेट मिले.

Post a Comment

Previous Post Next Post