इस महिला के पास खानें के लिये नही है रोटी, जब पड़ा इनकम टैक्स का छापा, तो निकली 100 करोड़ की



इंसान की कि’स्मत में कब या लिखा हो, कोई नहीं जानता. यह कि’स्मत कभी भी पल’टी मा’र सकती है और भिखारी को राजा व राजा को भिखारी बना सकती है. लेकिन अगर कि’स्मत बुरी हो जाए तो इंसान के पास सब कुछ होते हुए भी कुछ हाथ नहीं आता. कुछ ऐसा ही मा’मला हाल ही में देखने को मिला है. जहाँ संजू देवी नामक महिला के साथ कु’दरत ने कुछ इस कदर से खिल’वाड़ किया कि वह सब कुछ पास होते हुए भी गरीबी की जिंदगी जी रही है. पति के नि’ध’न के बाद संजू देवी ने दो बच्चों का पेट पालने के लिए मजदूरी करना शुरू कर दिया था साथ ही वह जानवर पाल कर भी घर का खर्चा चला रही है.


गौरतलब है कि पाई-पाई की मोहताज संजू देवी आज करोड़ों रूपये की मालकिन है लेकिन फिर भी परिवार चलाने के लिए उसे दिन रात मेहनत करनी पड़ रही है. अब आप सोच रहे होंगे क्यों? तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हाल ही में संजू देवी के घर इनकम टैक्स की रे’ड मा’री गई थी. इस दौरान पाया गया कि वह कम से कम 100 करोड़ रूपये की मालकिन हैं. इनकम टैक्स को संजू देवी के नाम 64 बीघा ज़मीन मिली है. संजू एक आ’दिवा’सी महिला है. वह खुद भी नहीं जानती कि उसके पास वह ज़मीन कब और कहा से आई. लेकिन बुरी कि’स्मत तो देखिए कि उसके पास ख़ुशी आई भी तो केवल दो पल की ही. क्यूंकि यह ज़मीन अब इनकम टै’क्स विभाग ने अपने क’ब्ज़े में ले ली है.

दरअसल, जयपुर-दिल्ली हाईवे पर बने दंड गाँव में पड़ने वाली ज़मीनों पर हाल ही में आयकर विभाग ने बैनर लगा कर इन्हें बेनामी संपत्ति घोषित कर दिया है. आयकर विभाग ने इन सभी ज़मीनों को क’ब्ज़े में ले लिया है. इन ज़मीनों पर लगे बैनर्स के अनुसार इनकी मालकिन संजू देवी मीणा है जिसकी वह मालकिन नहीं हो सकती ऐसे में इनकम टैक्स विभाग इस ज़मीन को अपने क’ब्ज़े में ले रहा है. मा’मले की जांच पड़ताल के दौरा’न पता चला है कि संजू देवी के पति और ससुर मुंबई में काम किया करते थे और साल 2006 में उन्होंने उससे एक कागज़ पर अंगूठा लगवाया था.

संजू देवी ने बताया कि अब उसके पति को गुज़रे 12 साल बीत चुके हैं और वह नहीं जानती कि उसके नाम कितनी ज़मीन है या फिर कहाँ पर है. संजू के अनुसार पति के नि’धन के बाद उसके घर पर कोई पांच हजार रूपये दे जाता था जिसमे से ढाई हजार उसकी फुफेरी बहन रख लिया करती थी. परंतु अब काफी साल बीतने के बाद ना तो कोई पैसे दे रहा था और ना वह संपत्ति के बारे में कुछ जानकारी रखती है. 

जानकारी के अनुसार आयकर विभाग को यह शिका’यत मिली थी कि दिल्ली हाईवे पर बड़े बड़े उद्योगपति आदिवासियों की ज़मीन को फ’र्जी तरीके से अपने नाम कर रहे हैं. जबकि आदिवासी की ज़मीन को केवल एक आदि’वासी ही खरीद सकता है. ऐसे में जब इनकम टैक्स वालों ने ज़मीनों के मालिकों की खोज की तो पता चला कि इनमे से कईं ज़मीने संजू देवी मीणा के नाम पर है. संजू राजस्थान के सीकर जिले के नीम थाना तहसील के दीपावास गाँव में रहती है जोकि अपनी जायदाद से अनजान है.

Post a Comment

Previous Post Next Post