ऐसे पीएम जिनके कहने पर देश ने छोड़ दिया था एक वक्त का खाना, आज भी रहस्य है उनकी मौत....

ऐसे पीएम जिनके कहने पर देश ने छोड़ दिया था एक वक्त का खाना, आज भी रहस्य है उनकी मौत....

भारत के दूसरे प्रधानमंत्री ‘जय किसान, जय जवान’ का नारा देने वाले लाल बहादुर शास्त्री की आज 55वीं पुण्यतिथि है। पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का आज ही के दिन 1966 में उज्बेकिस्तान के ताशकंद में निधन हो गया था। उनके ही नेतृत्व में भारत ने वर्ष 1965 की जंग में पाकिस्तान को शिकस्त दी थी। पाकिस्तान को करारी हार देने के बाद शास्त्री पाकिस्तानी राष्ट्रपति अयूब खान के साथ युद्ध खत्म करने के समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए ताशंकद गए थे और वहां से वह अपने देश कभी नहीं लौटे, उनका पार्थिव शरीर वापस आया था।

हत्या या मौत में आज तक उलझी है गुत्थी


लाल बहादुर शास्त्री की मौत आज तक रहस्य बनी हुई है। 10 जनवरी, 1966 को पाकिस्तान के साथ ताशकंद समझौते पर हस्ताक्षर करने के महज 12 घंटे बाद यानी 11 जनवरी को 1: 32 बजे उनकी मौत हो गई। कहा जाता है कि शास्त्री निधन से आधे घंटे पहले तक बिल्कुल ठीक थे, लेकिन 15 से 20 मिनट में उनकी तबियत खराब हो गई। इसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें एंट्रा-मस्कुलर इंजेक्शन दिया। इंजेक्शन देने के चंद मिनट बाद ही उनकी मौत हो गई।


आधिकारिक तौर पर बताया गया कि लाल बहादुर शास्त्री की मौद दिल का दौर पड़ने से हुई। इससे पहले भी शास्त्री को दिल से जुड़ी बीमारी रही थी। उन्हें 1959 में एक हार्ट अटैक भी आया था। जिसके बाद उनके परिजन और मित्र कम काम करने की सलाह देते थे, लेकिन 9 जून, 1964 को देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद उन पर काम का दबाव बढ़ता ही चला गया। जबकि इसके इतर कुछ रिपोर्ट में दावा किया गया कि उनको साजिश तहत मारा गया था।


पत्नी ने किया हत्या का दावा

कुछ लोग दावा करते हैं कि जिस रात शास्त्री की मौत हुई, उस रात खाना उनके निजी सहायक रामनाथ ने नहीं बल्कि सोवियत रूस में भारतीय राजदूत टीएन कौल के कुक जान मोहम्मद ने पकाया था। खाना खाकर शास्त्री सोने चले गए थे। उनकी मौत के बाद शरीर के नीला पड़ने पर लोगों ने आशंका जताई थी कि शायद उनके खाने में जहर मिला दिया गया था। शव देखने के बाद उनकी पत्नी ललिता शास्त्री ने दावा किया था कि उनके पति को जहर देकर मारा गया। अगर दिल का दौरा पड़ा तो उनका शरीर नीला क्यों पड़ गया था ? उनके बेटे सुनील का भी कहना था कि उनके पिता की बॉडी पर नीले निशान थे।

बेहद सामान्य घर से देश की सत्ता संभालने तक का सफर तय करने वाले स्वतंत्रता सेनानी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहुादुर शास्त्री की मौत पर रूसी कनेक्शन, उनके शव का रंग बदलना और शव का पोस्टमार्टम न किया जाना, ऐसे कई सवाल हैं, जो उनकी मौत पर सवाल खड़े करते रहे हैं। हालांकि, आज तक देशवासियों को यह पता नहीं चल सका कि उनकी मौत हुई थी या हत्या की गई थी।

पोस्टमार्टम न कराने पर उठे सवाल

शास्त्री की मौत पर संदेह इसलिए भी किया जाता है क्योंकि उनका पोस्टमार्टम भी नहीं कराया गया था। कहा जाता है कि अगर उस समय पोस्टमार्टम कराया जाता, तो उनकी मौत की असली वजह सामने आ सकती थी। एक प्रधानमंत्री की अचानक मृत्यु हो जाने के बाद भी उनके शव का पोस्टमार्टम नहीं कराया जाना हमेशा ही संदेह के दायरे में रहा है।

एक अपील पर देश ने छोड़ा दिया था एक वक्त का खाना

अमेरिका की धमकी से आहत होकर उन्होंने देशवासियों से एक वक्त का खाना छोड़ने की अपील की थी और पूरे देश ने उनका साथ दिया था। दरअसल, जब साल 1965 में भारत पाकिस्तान के बीच जंग जारी थी, तभी अमेरिकी राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने शास्त्री को धमकी दी थी कि अगर उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ जंग नहीं रोकी, तो अमेरिका जो गेहूं भेजता है, वो बंद कर देगा। उस वक्त भारत गेहूं के उत्पादन में आत्मनिर्भर नहीं था। प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को ये बात चुभ गई। उन्होंने देशवासियों से अपील की कि हम लोग एक वक्त का भोजन नहीं करेंगे।

पहले खुद छोड़ा था भोजन

शास्त्री ने देशवासियों से अपील करने से पहले खुद अपने परिवार के लोगों से एक वक्त खाना न खाने की बात कही थी। वे देखना चाहते थे कि उनके बच्चे भूखे रह सकते हैं या नहीं। जब उन्होंने देख लिया कि वो और उनके बच्चे एक वक्त बिना खाना खाए रह सकते हैं, तब जाकर उन्होंने देशवासियों से अपील की।


Post a Comment

Previous Post Next Post