बेटों से इतना खफा हो गया बाप की नहीं दी फूटी कौड़ी, कुत्‍ते के नाम कर दी अपनी जायदाद-|



हम सभी ने संपत्ति विवाद की कई कहानियां सुनी हैं। आपने कई लोगों को जमीन जायदाद के लिए आपस में लड़ते और अदालत के चक्कर लगाते देखा होगा। कई मामलों में, लोग क्लेश से नाखुश भी होते हैं और यहां तक ​​कि अपनी संपत्ति को चैरिटेबल ट्रस्ट में भी बदलते हैं। लेकिन मध्य प्रदेश में एक बहुत ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जहां एक व्यक्ति ने अपने बेटों के व्यवहार से तंग आकर अपनी संपत्ति का आधा हिस्सा अपने कुत्ते को और आधा अपनी पत्नी को दे दिया है। उनके इस फैसले से हर कोई हैरान है। आप पढ़ रहे हैं हिमाचली खबर।


मध्य प्रदेश के बादीबाड़ा गाँव में किसान ओम नारायण ने अपने कुत्ते की वफादारी पर अच्छा विश्वास किया और उसे अपनी संपत्ति का पचास प्रतिशत हिस्सा दिया। किसान ने अपनी वसीयत में आधी संपत्ति अपने कुत्ते जैकी के नाम पर और आधी अपनी पत्नी चंपा के नाम पर की है। दरअसल ओम नारायण अपने बेटों के व्यवहार से बहुत नाराज थे। अपनी वसीयत में, उन्होंने रोज़मर्रा के संघर्षों के कारण पालतू कुत्ते को बेटों के स्थान पर संपत्ति का हकदार बनाया।

आधी संपत्ति कुत्ते को दे दी गई

किसान ने पारिवारिक विवाद के कारण अपने पालतू कुत्ते को 2 एकड़ जमीन दे दी। जो भी परिवार में उसकी देखभाल करेगा उसे कुत्ते की संपत्ति मिलेगी। अपनी वसीयत में 50 वर्षीय ओम नारायण वर्मा ने लिखा है कि 'मेरी पत्नी और पालतू कुत्ता मेरी सेवा करते हैं, इसलिए मेरी मृत्यु के बाद मैं पूरी संपत्ति और संपत्ति, पत्नी चंपा वर्मा और पालतू कुत्ते जैकी का हकदार हो जाऊंगा। कुत्ते की सेवा करने वाले व्यक्ति को संपत्ति का अगला वारिस माना जाएगा। सोशल मीडिया पर भी इस मामले को जानकर लोग हैरान हैं।


Post a Comment

0 Comments