युवक के साथ होटल गई और फिर दुःखद खबर आई



दो दिन पहले ही साल 2020 का अंत हुआ है। हालांकि ऐसा लगता है जैसे जाते जाते भी वह अपनी बुरी छाप ही छोड़ना चाहता था। साल के आखिरी दिन जहां लोग अपनी सभी खराब यादों को छोड़कर नए साल मे प्रवेश करने का इंतजार करते है, वहीं सूरत के कतारगाम इलाके में रहने वाले परिवार के लिए यह आखिरी दिन ही सबसे बुरी याद बनकर रह गया। परिवार की एक मात्र पुत्री जो उस दिन थर्टी फर्स्ट मनाने गई थी, दूसरे दिन उसकी लाश परिवार के सामने आई। अपने मित्र के साथ गई थी होटल; सुबह बेहोश मिली विस्तृत जानकारी के अनुसार, सूरत के कतारगाम इलाके में रहने वाले दिलीप भादानी की पुत्री तन्वी भादानी एक हैल्थ प्रोडक्ट कंपनी मे मार्केटिंग का काम करती थी। 31 दिसंबर की रात को तन्वी अपने मित्र पंकज गोहिल के साथ पीपलोद इलाके में आईं OYO होटल में थर्टी फर्स्ट मनाने आईं थी। पंकज गोहिल को परिवार के सभी सदस्य अच्छे से जानते थे, जिससे की परिवार ने तन्वी को जाने के अनुमति दे दी। पंकज के अनुसार, तन्वी रात को अपने रूम […]

दो दिन पहले ही साल 2020 का अंत हुआ है। हालांकि ऐसा लगता है जैसे जाते जाते भी वह अपनी बुरी छाप ही छोड़ना चाहता था। साल के आखिरी दिन जहां लोग अपनी सभी खराब यादों को छोड़कर नए साल मे प्रवेश करने का इंतजार करते है, वहीं सूरत के कतारगाम इलाके में रहने वाले परिवार के लिए यह आखिरी दिन ही सबसे बुरी याद बनकर रह गया। परिवार की एक मात्र पुत्री जो उस दिन थर्टी फर्स्ट मनाने गई थी, दूसरे दिन उसकी लाश परिवार के सामने आई। अपने मित्र के साथ गई थी होटल; सुबह बेहोश मिली विस्तृत जानकारी के अनुसार, सूरत के कतारगाम इलाके में रहने वाले दिलीप भादानी की पुत्री तन्वी भादानी एक हैल्थ प्रोडक्ट कंपनी मे मार्केटिंग का काम करती थी। 31 दिसंबर की रात को तन्वी अपने मित्र पंकज गोहिल के साथ पीपलोद इलाके में आईं OYO होटल में थर्टी फर्स्ट मनाने आईं थी। पंकज गोहिल को परिवार के सभी सदस्य अच्छे से जानते थे, जिससे की परिवार ने तन्वी को जाने के अनुमति दे दी। पंकज के अनुसार, तन्वी रात को अपने रूम […]





दो दिन पहले ही साल 2020 का अंत हुआ है। हालांकि ऐसा लगता है जैसे जाते जाते भी वह अपनी बुरी छाप ही छोड़ना चाहता था। साल के आखिरी दिन जहां लोग अपनी सभी खराब यादों को छोड़कर नए साल मे प्रवेश करने का इंतजार करते है, वहीं सूरत के कतारगाम इलाके में रहने वाले परिवार के लिए यह आखिरी दिन ही सबसे बुरी याद बनकर रह गया। परिवार की एक मात्र पुत्री जो उस दिन थर्टी फर्स्ट मनाने गई थी, दूसरे दिन उसकी लाश परिवार के सामने आई।

अपने मित्र के साथ गई थी होटल; सुबह बेहोश मिली

विस्तृत जानकारी के अनुसार, सूरत के कतारगाम इलाके में रहने वाले दिलीप भादानी की पुत्री तन्वी भादानी एक हैल्थ प्रोडक्ट कंपनी मे मार्केटिंग का काम करती थी। 31 दिसंबर की रात को तन्वी अपने मित्र पंकज गोहिल के साथ पीपलोद इलाके में आईं OYO होटल में थर्टी फर्स्ट मनाने आईं थी। पंकज गोहिल को परिवार के सभी सदस्य अच्छे से जानते थे, जिससे की परिवार ने तन्वी को जाने के अनुमति दे दी।

पंकज के अनुसार, तन्वी रात को अपने रूम नंबर 410 में सोने गई थी। जिसके बाद सुबह वह तन्वी को उठाने गया, पर तन्वी उठ नहीं रही थी। घबरा कर पंकज ने 108 को फोन किया और तन्वी को अस्पताल ले जाया गया। जहां हाजिर डॉक्टरों ने तन्वी को मृत घोषित किया। परिवार के सदस्यों को इस बारे में जानकारी मिलने पर उनके पैरो तले से जमीन खिसक गई।

पुलिस ने तन्वी की लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। जांच रिपोर्ट के बाद ही उसकी मौत का कारण सामने आ सकेगा। तन्वी अपने माता पिता की इकलौती पुत्री थी। पढ़ाई में होशियार होने के साथ साथ तन्वी काम भी करती थी। तन्वी के पिता की डायमंड के पार्ट्स की दुकान है। पुत्री की मौत के कारण पूरे घर में शोक का माहौल छाया हुआ है।

Post a Comment

Previous Post Next Post