घर में चोरी करने पहुंचे चोर फंस गए, तो मालिक ने किया दिल छू जाने वाल काम>>|




कोई पैदाइशी चोर नहीं होता. कई बार मजबूरियाँ होती है तो कई बार लोग ही बिगड़ जाते हैं. अब ये तो चोर की किस्मत है की उसे क्या मिलेगा और कितना मिलेगा गलती से अगर फंस जाए तो मार कितनी पड़ेगी. पर किसी चोर को चोरी करने वाली जगह नौकरी मिल जाए. तो आपको विशवास नहीं होगा. ये बिलकुल फिल्मी कहानी की तरह लगता है पर है बिलकुल सच. दरअसल एक चोर इतना ईमानदार निकला, उसे नौकरी पर रख लिया गया.


इस चोर ने पहले तो चोरी की वारदात को अंजाम दिया, पर अचानक से उसका मन बदल गया और उसने चोरी का सामान माफ़ी के साथ लौटा दिया. शायद इस चोर ईमान डोला नहीं बल्कि इसका ज़मीर अचानक से जाग गया. जी हां, खबर है मेरठ के मोदीपुरम में ऐसा ही चौंकाने मामला सामने आया है. हुआ ये की यहां रालोद जिलाध्यक्ष राहुल के फार्म हाउस से हजारों का सामान चोरी कर लिया गया था. जिलाध्यक्ष के फार्म हाउस से चोरी हुई तो मामला भी पुरे शहर में फ़ैल गया.

इससे पहले की चोर पकड़ा जाता वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी ने खुद ही चोरी का सामान लौटा दिया और माफी के साथ नौकरी भी मांग ली. चोर की ईमानदारी राहुल को गुस्सा नहीं आया, बल्कि उसका दिल पसीज गया. चोरी का सामान मिलने की ख़ुशी तो थी ही पर चोर के फैसले को देखकर राहुल भी चौंक गए. आखिर चोर चोरी का सामान लेकर खुद पहुंचा है. अब राहुल ने भी आरोपी के पश्चाताप को देखते हुए उसे अपने फार्म हाउस पर ही नौकरी पर रख लिया है.

बता दें कि एनएच-58 पर पल्लवपुरम थाना अंर्तगत रालोद जिलाध्यक्ष राहुल देव का नारायण फार्म हाउस है. यहां कुछ दिन पहले चोर की नज़र पड़ी. और वो हज़ारों रूपए का सामान चुरा ले गया. परछाई की तरह घुसे इन चोरों को सीसीटीवी ने कैद कर लिया. मामला पुलिस तक पहुंचा और पुलिस के हाथ वह सीसीटीवी फुटेज लग गई, जिसमें चोर कैद हो गए थे. फुटेज के आधार पर पुलिस चोर की तलाश कर रही थी. हालांकि, मंगलवार को आरोपी खुद ही चोरी किया हुआ सामान लेकर रालोद जिलाध्यक्ष के पास पहुंच गया. और माफी मांगते हुए रोने लगा और बताया कि उसे अपने काम का पछतावा है.

ये सब देखकर रालोद जिलाध्यक्ष राहुल देव भी हैरान थे. उन्होंने पहले चोरी और अब सामान लौटाने का कारण पूछा तो आरोपी के आंसू रुक ही नहीं पा रहे थे. उनसे रो रो कर अपनी दास्ताँ सुनाई. गाजियाबाद के रहने वाले आरोपी ने बताया कि बेरोजगारी के चलते आर्थिक स्थिति बेहद खराब है. परिवार के लिए राशन के भी पैसे नहीं थे, इसलिए उसने गलत काम को चुना और चोरी की वारदात को अंजाम दिया. आरोपी ने बताया कि बाद में उसे अपनी गलती का पछतावा हुआ, इसलिए सामान लौटा दिया. आरोपी ने रालोद जिलाध्यक्ष राहुल देव से माफी के साथ नौकरी भी मांग ली, राहुल ने भी आरोपी के पश्चाताप को देखते हुए उसे अपने फार्म हाउस पर ही नौकरी पर रख लिया है

Post a Comment

0 Comments