पिता नही हैं और माँ बीमार रहती हैं, खुशी आज इलाहाबाद में चाय बेचकर पूरे परिवार का खर्च उठाती हैं



आज की हमारी कहानी इलाहाबाद के एक ऐसी लड़की की है जो अपने पिता की मृत्यु के बाद अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए चाय की स्टॉल लगा ली। आत्मनिर्भर बनना कोई कठिन कार्य नहीं बल्कि जीवन के उद्देश्य को याद रख आगे बढ़ना होता है।

हम जिनके विषय मे बात कर रहें हैं वह हैं, खुशी (Khushi), जो इलाहाबाद विश्वविद्यालय (Allahabad University) की छात्रा हैं, पढ़ने में तेज-तर्रार और मेधावी छात्रों की श्रेणी में आती हैं। जब खुशी अपनी पढ़ाई के माध्यम से उड़ान भरने लगी तब इनके ज़िंदगी में एक कठिन दौर आया।

खुशी के पिता नहीं हैं और मां का भी स्वास्थ्य भी ठीक नहीं रहता

कुछ दिन पूर्व खुशी के पिता जी का देहांत हो गया। इनकी मां का स्वास्थ्य भी ठीक नहीं रहता। अगर कहा जाये कि खुशी अपनी ज़िंदगी के कठिन दौर से गुज रहीं हैं तो यह गलत नहीं होगा।

पढ़ाई जारी रखने के लिए खोली चाय की दुकान

अपने हालात को मद्दे नज़र रखतें हुए खुशी ने एक चाय की दुकान खोली। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की छात्रा खुशी ने यह काम शुरू किया तक पढ़ाई जारी रख सके। इनकी यह दुकान “स्टूडेंट टी पॉइंट” है जिसका स्थान सलोरी टी पॉइंट है। अपनी दिनचर्या को समाप्त कर खुशी शाम के वक़्त 3-4 घण्टे चाय बेंचती हैं।

खुशी अपने निकटतम भविष्य में IAS और PCS की सेवा ज्वॉइन करना चाहती हैं। इनके जीवन का उद्देश्य और आगे बढ़ना है। खुशी की सहायता दूसरी लड़कियां जो इनकी दोस्त हैं और बीए की छात्रा हैं तथा यूनिवर्सिटी के कुछ लड़के भी कर रहें हैं। इनके दोस्त हमेशा यह प्रयास करते हैं कि वह अकेली ना पड़ें।


Post a Comment

0 Comments