जब ससुराल में फंस गए थे वीरेंद्र सहवाग, बचाने के लिए बुलानी पड़ी थी पुलिस; कपिल शर्मा के शो पर सुनाया था रोचक किस्सा




क्रिकेट की दुनिया में खिलाड़ियों के मैदान पर कई किस्से होते हैं. बल्लेबाजों-गेंदबाजों का आपस में भिड़ना, कैप्टन का चिल्लाना, अंपायर के निर्णय से नाराज होना सहित घटनाएं मैदान पर होती रहती हैं. केवल मैदान पर ही नहीं उससे बाहर के भी खिलाड़ियों के पास कई किस्से होते हैं. टीम इंडिया के पूर्व ओपन वीरेंद्र सहवाग के पास तो कहानियों का खजाना है. उन्होंने कपिल शर्मा के शो पर बताया था कि वे एक बार ससुराल में बुरी तरह फंस गए थे. उन्हें बचाने के लिए पुलिसा बुलानी पड़ी थी.

कपिल शर्मा ने अपने शो के दौरान सहवाग से पूछा, ‘‘जब आप 300 स्कोर बनाते हैं तो ससुराल वालों की छाती चौड़ी हो जाती होगी. वे हेलमेट में से पहचान लेते होंगे कि ये मेरे दामाद जी है. कभी ऐसा हुआ है कि जब आप 0 पर आउट हुए हो तो खिचड़ी बनाई हो. मतलब क्या स्कोर के मुताबिक वो आपके साथ व्यवहार करते हैं?’’ इस पर सहवाग ने कहा, ‘‘ऐसा नहीं होता है. वे मानते हैं कि इतना बढ़िया नसीब है कि ऐसा दामाद मिला है जो 15 वर्ष में केवल 15 बार भी ससुराल नहीं आया है. मैं एक बार ही विवाह से पहले ससुराल गया था. जब मैं गया तो मुझे निकलने का मौका ही नहीं मिल रहा था. 10 हजार लोग वहां पहुंच गए थे.’’

सहवाग ने आगे कहा, ‘‘उस दिन के बाद मैंने फैसला लिया कि ससुराल नहीं जाऊंगा. क्योंकि निकलने में परेशानी होने लगती है. फिर हमने पुलिस बुलाई. उन्होंने भीड़ को हटाया. इसके बाद मैं वहां से निकल सका.’’ कपिल ने आगे पूछा, ‘‘जैसे किसी का दामाद सिंगर है तो सालियां कहती हैं कि गाना सुनाके दिखाओ. क्या आपको सालियां नहीं कहती थी कि जीजू एक छक्का मारकर दिखाओ?’’ इस पर वीरू ने कहा, ‘‘ऐसा अब तक हुआ नहीं है.’’

सहवाग ने फिर कहा, ‘‘जब से लोगों को यह पता चला कि मैं खेलते समय गाना गाता हूं तो लोग गाने के लिए कहने लगे. इस पर मैंने एक फॉर्मूला अपनाया कि जहां भी मैं जाता हूं वहां गाना गाने नहीं जाता हूं. यदि गाना गाने के लिए बुलाना है तो अच्छे पैसे दो तब मैं गाना गाऊंगा.’’ सहवाग ने हिंदुस्तान के लिए पहला मैच (वनडे) 1999 में पाक के विरूद्ध मोहाली में खेला था. उन्होंने अपना अंतिम मुकाबला (टेस्ट मैच) मार्च 2013 में हैदराबाद के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध खेला था.

Post a Comment

Previous Post Next Post