ट्रेन में लड़’की का शुरू हुआ पी’रियड, फिर एक लड़’के ने किया ऐसा काम जिसे जान’कर आपको लड़कों पर…..



पीरिय’ड्स के दौरान महि’लाओं को उनके आस’पास के क्षेत्र में संकटमो’चन के रूप में दे’खा जाता है।अफ़’सोस अगर किसी महि’ला को सैनि’टरी नैप’किन की जरू’रत है तो उसे दो’स्तों के स’मूह के बीच फुस’फुसा कर या कोड भा’षा का उप’योग करके बोलना पड़ता है ता’कि किसी और को पता न चलें। कि’तनी बार हमने दुका’नदारों को अपने सम्मा’नित समा’ज की नज़रों से छुपाने के लिए काले पॉलि’थीन बैग में सैनि’टरी पैड पैक करते देखा है। य’दि आप यात्रा कर रहे हैं या यहां तक कि ऑफि’स जा रहे हैं तो सुनि’श्चित करें कि आप अपने स्व’यं के पैड की आपू’र्ति कर रहे हैं क्यों’कि यदि आप भू’लने की हिम्म’त करते हैं तो शा’यद ये आपको सैनि’टरी नैप’किन न मिल सके|

ऐसी ही एक घंट’ना में एक महि’ला को ऐसी सम’स्या से गुज’रना पड़ा| कर्ना’टक के रहने वाले एक यात्री विशा’ल खान’पुरे ने अपने दो’स्त की ट्वि’टर की सहा’यता से सैनि’टरी नैप’किन और पैन किलर गो’लियां दिलाने में मदद की। वि’शाल की दो’स्त एक आर्कि’टे’क्चर छात्र जब बेंग’लुरु से बेल्ला’री जाने के लिए पैसें’जर ट्रेन से यात्रा कर रही थी तभी उसे पीरि’यड शुरू हुआ।ट्रेन रात 10:15 बजे बेंग’लुरु से रवाना होती है और अगले दिन सु’बह 09:40 बजे बेल्ला’री पहुंचती है। जब यह यसवं’तपुर स्टे’शन से नि’कल रही थी तो दो’स्त खान’पुरे ने भार’तीय रेलवे और पी’यूष गोय’ल कें’द्रीय रेल को ट्’वीट करके मदद मांगी।डिवी’जन के अधि’कारी सभी वस्तु’ओं के साथ तैयार थे।

टीओ’आई से बात करते हुए, खान’पुरे ने कहा की 11.06 बजे एक अधि’कारी मेरे दो’स्त के पास पहुंचा और उसकी आवश्यक’ताओं की पु’ष्टि की और उसके पीएन’आर विवरण और मोबा’इल नंबर ले लिया। 2 बजे जब ट्रेन स्टे’शन पर पहुंची तो डिवी’जन के अधि’कारी उन सभी वस्तु’ओं के साथ तैयार थे जो उसने मांगी थीं। त्वरित प्रति’क्रिया से हम सभी आश्चर्य’चकित हैं|हालाँ’कि आपको बता दें की कई जगह सेने’टरी वें’डिंग म’शीन भी लगाई जा रही है|


Post a Comment

Previous Post Next Post