अगर पाना चाहते हैं मां लक्ष्मी की कृपा, तो प्रतिदिन सं’ध्या समय जरूर करें ये एक काम…

Maa Laxmi Ko Prasanna Karne Ke Upay In Hindi - शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी  को प्रसन्न करने के लिए जरुर लें उनके 18 पुत्रों के नाम | Patrika News

मां लक्ष्मी धन और ऐश्वर्य की देवी हैं। जिनके ऊपर मां लक्ष्मी की कृपा रहती है। उन्हें किसी प्रकार का अभाव नहीं रहता है। मां लक्ष्मी की कृपा से घर में धन-संपदा की कोई कमी नहीं रहती है, इसलिए हर व्यक्ति मां लक्ष्मी की कृपा पाना चाहता है। धन समृद्धि का प्राप्ति के लिए सबसे आव’श्यक होता है कि व्यक्ति परि’श्रम करें, मेहनत के बल पर सब कुछ प्राप्त किया जा सकता है। परि’श्रमी लोगों से मां लक्ष्मी हमेशा प्रसन्न रहती हैं। परंतु बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं जो बहुत मेहनत करते हैं फिर भी उन्हें धन, सुख-समृद्धि और ऐ’श्वर्य की प्राप्ति नहीं होती है। यदि बहुत मेहनत करने पर भी आपके घर में धन की किल्लत बनी रहती है तो आप यह एक कार्य प्रति’दिन करके मां ल’क्ष्मी की कृपा प्राप्त कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं कि ऐसा कौन सा कार्य है, जिसे करने से मां लक्ष्मी प्रस’न्न होती हैं।


हिन्दू धर्म में सूर्यो’दय और सूर्या’स्त के समय को काफी मह’त्वपूर्ण माना गया है। ये दोनों ही समय ईश्वर बंदन के समय मान् गअ हैं। इस’लिए इस समय किया गया पूजा-पाठ बहुत जल्दी फलित होता है। यदि आपके ऊपर आर्थिक परेशा’नियां हैं तो आप भी संध्या के समय ये एक कार्य कर सकते हैं।

हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बहुत ही पवित्र और पूज’नीय माना गया है। तुलसी भग:वान विष्णु को बहुत प्रिय हैं इसलिए इन्हे हरिव’ल्लभा कहा जाता है। धार्मिक दृ’ष्टि के अनुसार जिस घर में तुलसी पौधा होता है और प्रति’दिन उसकी पूजा, एवं अर्घ्य दिया जाता है वहां हमेशा मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। इसलिए पहले के समय में आंगन को बीचो-बीच तुलसी का पौधा अव’श्य लगाया जाता था।

जानते हैं कि संध्या समय क्या करें
प्रतिदिन संध्या के समय तुलसी के पौधे में गाय के शुद्ध घी का दीपक जलाना चाहिए। तुलसी की परिक्रमा करते हुए सुख-समृ’द्धि की प्रार्थना करनी चाहिए। ऐसा करने मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती हैं। आपके घर में किसी प्रकार से धन-धान्य की कमी नहीं रहती है।

ध्यान रखें ये बातें
सूर्या’स्त के बाद तुलसी को स्पर्श न करें।
दीपक जला’कर ऐसे ही न रखें। तुलसी में हमेशा चावल का आसन देकर दीपक जलाना चाहिए।

Post a Comment

Previous Post Next Post