शरीर में इन 7 माइनर साइन्स से डायबिटीज की पहचान करें, जानिए कितनी खतरनाक है ये बीमारी..

शरीर में इन 7 मामूली संकेतों से पहचानें डायबिटीज, जानें कितनी खतरनाक ये  बीमारी: Diabetes - Polkhol

जब इंसुलिन शरीर के अग्न्याशय तक पहुंचता है, तो रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ने लगता है। मेडिकल भाषा में इसे डायबिटीज कहा जाता है। यह एक पुरानी और चयापचय संबंधी बीमारी है जो एक समय के बाद हृदय, रक्त कोशिकाओं, आंखों, गुर्दे और तंत्रिकाओं को नष्ट कर देती है। WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में 42 करोड़ से ज्यादा लोग इस भयानक बीमारी की चपेट में हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि शरीर में 7 लक्षण देखकर आप मधुमेह के खतरे की पहचान कर सकते हैं।

बहुत ज्यादा प्यास लगना

बहुत ज्यादा प्यास टाइप -2 डायबिटीज का लक्षण है। आप कह सकते हैं कि पानी की कोई भी मात्रा आपकी प्यास को लंबे समय तक शांत नहीं रखेगी। रक्त में शर्करा की एक उच्च मात्रा फिल्टर को गुर्दे पर अधिक दबाव बनाती है। यदि गुर्दे तेजी से काम नहीं करते हैं, तो शरीर में मूत्र का उत्पादन बढ़ जाएगा और आपको बार-बार पेशाब आएगा। इससे डिहाइड्रेशन की समस्या भी बढ़ सकती है। अगर आपको पूरे दिन प्यास लगती है और आप बार-बार बाथरूम जाते हैं, तो आपको एक बार डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

घाव भरने में समय लगता है

रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि के कारण घाव या घाव जल्दी से ठीक नहीं होते हैं। इतना ही नहीं, बल्कि शरीर पर एक छोटा निशान भी जल्दी ठीक नहीं होता है। शेविंग करते समय चेहरे पर हल्का सा कट लंबे समय तक रहता है। टाइप -2 डायबिटीज के रोगियों में, ऐसी कठिनाई कहीं अधिक है।

भुजाओं और पैरों में सुन्नपन

खून में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ने से भी नसों को नुकसान पहुंचता है। मेडिकल भाषा में, इस समस्या को ‘पेरीफेरल डायबिटिक न्यूरोपैथी’ कहा जाता है। पैरों पर सुई या पिन गिरने जैसा झुनझुनाहट महसूस होता है। कुछ लोगों को ऐसा लगता है जैसे वे कपास के खेतों पर चल रहे हैं। वहीं, कुछ लोगों को ऐसा लगता है जैसे पत्थर पर चलना। अगर आपके साथ भी ऐसा है, तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

लिंग की सूजन या लाल होना

टाइप -2 डायबिटीज के रोगियों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन से संबंधित समस्याएं भी देखी जाती हैं। मेडिकल भाषा में इसे बैलेनाइटिस कहा जाता है। एंडोक्रिनोलॉजिस्ट डॉ। होम्स वॉकर का कहना है कि अगर आपको अपने लिंग में सूजन, लालिमा, दर्द या डिस्चार्ज की समस्या है, तो यह डायबिटीज -2 की समस्या हो सकती है।

मूड डिसऑर्डर

मधुमेह -2 रोग व्यक्ति के मूड को भी प्रभावित करता है। आप इसे मूड डिसऑर्डर कह सकते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, मधुमेह के चार में से एक रोगी में अवसाद होता है, जबकि छह में से एक रोगी में एंग्जाइटी की शिकायत होती है। रक्त में शर्करा के स्तर की मात्रा का संतुलन मनुष्य के मानसिक संतुलन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

धुंधली आंख

क्या आप जानते हैं कि डायबिटीज से इंसान की आंखें खराब हो सकती हैं। हालांकि, यह शायद मधुमेह के बहुत उन्नत चरण में है। हाई ब्लड ग्लूकोज आंखों की रेटिना में मौजूद ब्लड सेल्स को खराब कर देता है। इस स्थिति में, व्यक्ति को आंखों के सामने काले धब्बे दिखाई देने लगते हैं या यह धुंधला दिखाई देने लगता है।

रक्त मसूड़े

होम्स वॉकर का कहना है कि मधुमेह के रोगियों में ‘पीरियडोंटाइटिस’ होने की संभावना तीन गुना अधिक होती है। यह एक ऐसा विकार है जिसमें इंसान के मसूड़ों से खून आने लगता है और उसके दांत भी जल्द ही गिर जाते हैं। मसूड़ों की लालिमा या सूजन भी मधुमेह का एक प्रमुख लक्षण है। ऐसे लोगों को मधुमेह विशेषज्ञ और दंत चिकित्सक दोनों से संपर्क करना चाहिए।

Post a Comment

Previous Post Next Post