OMG! 440 वोल्ट नहीं, ये दोनों भाई 11000 वोल्ट के बिजली के तारों को छूते हैं



1990 में आई ब्लॉकबस्टर मूवी दिल का यह गाना तो सबने सुना होगा, 440 वोल्ट है, छूना है मना। यहां हम ऐसे दो भाइयों की बारे में बताने जा रहे हैं, जो 11000 वोल्ट के बिजली के तारों को आसानी से छू लेते हैं। आसपास के लोग दोनों भाइयों को करंट मेन के नाम से पुकारते हैं।

धरमजयगढ़ से 35 किमी कापू के पखनाकोट गांव में रहने वाले भाइयों का असल नाम प्रभु तिर्की और अनुज तिर्की है। ये दोनों भाई सब की तरह होते हुए भी सबसे अलग हैं, क्योंकि इनके शरीर में रजिस्टेंस पॉवर इतना ज्यादा है कि इन्हें 11 हजार वोल्टेज का करंट भी महसूस नहीं होता है।

यह गुण उनके भीतर बचपन से ही था, लेकिन इसकी पहचान उन्हें 8 और 10 साल की उम्र में हुई। दोनों भाई 11 हजार वोल्टेज की तार नंगे हाथों से पकड़ सकते हैं। इतना ही नहीं अपने हाथों से तार और बल्ब को आपस में जोड़ कर उसे जला भी सकते हैं। शेष|पेज 8

इनकी इसी खूबी की वजह से पखनाकोट ग्राम पंचायत व आसपास के दर्जन भर गांव छोटे मोटे बिजली से संबंधित काम कर किसी तरह अपना जीवन बिता रहे हैं। अनुज तिर्की बताते है कि 8 साल की उम्र में उन्हें पहली बार पता चला कि उसे बिजली की तार से करंट नहीं लगता। इसके बाद उसके बड़े भाई प्रभू ने भी बिजली का तार छुआ,उसे करंट महसूस नहीं हुआ, जबकि उनके पिता रामसाय तिर्की व दोस्तों को बिजली के तार को छूने से करंट महसूस होने लगे। इसके बाद गांव के लोग उन्हें दूसरों से अलग बताने लगे। वर्तमान में दोनों अकेले रहते हैं, उनके माता-पिता बाकारूमा के बरपाली गांव में रहते हैं।


आर्थिक तंगी इसलिए शादी नहीं हुई : दोनों भाइयों से आए दिन लोग मिलने आते हैं। उनकी कहानी कापू क्षेत्र के दर्जनों गांव तक पहुंच चुकी है, लेकिन उनके लिए अब तक किसी ने कुछ नहीं किया। लोगों के झूठे आश्वासन से परेशान दोनों भाई अब भीड़ से खुद को अलग रखते हैं। आर्थिक तंगी के कारण अब तक उनकी शादी भी नहीं हो सकी है।

गर्मी में घर से बाहर नहीं निकलते | सूरज की तेज किरणें इनके लिए बेहद नुकसानदायक है। सामान्य व्यक्तियों की तुलना में इन्हें गर्मी ज्यादा महसूस होती है। गर्मी के दिनों में दोनों सुबह 10 बजे के बाद घर से बाहर नहीं निकलते। धूप के संपर्क में आने से उनका स्किन जलने लगता है। इससे बचने के लिए वे पूरे दिन गीला कपड़ा शरीर पर लपेट कर रखते हैं, या फिर गीले कपड़े से बार-बार शरीर को पोंछते हैं।

शरीर में रजिस्टेंस पॉवर अधिक | बिलासपुर गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज में इलेक्ट्रिकल डिपार्टमेंट के एचओडी डॉ संजय सिंघाई बताते है कि शरीर में रजिस्टेंस पॉवर ज्यादा होने के कारण ऐसा होता है। हर इंसान की बॉडी में नैनो एम्पियर करंट का फ्लो होता है। यह हार्ट के नजदीक एसएन नोड के रूप में होते हैं।


Post a Comment

Previous Post Next Post