सुपारी के कुछ ऐसे उपाय, जो बदल देंगे आपके मुसीबत के दिन, पढ़ें जरूर।

 हिन्दुधर्म में  सुपारी को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है.किसी भी प्रकार की पूजा हो पर वो पूजा बिना सुपारी के प्रयोग के पूरी नहीं होती है.हमारे धर्म शास्त्रों में सुपारी बेहद चमत्कारी फल माना गया है.  जब सुपारी की विधिवत पूजा की जाती है तो वह चमत्कारी हो जाती है। अगर आप इस चमत्कारी सुपारी को हमेशा अपने पास रखते हैं तो जीवन में कभी भी पैसों की तंगी नहीं रहती है। आइए जानें सुपारी के 10 सटीक उपाय…

पूजा की सुपारी पर जनेऊ चढ़ाकर जब पूजा जाता है तो यह अखंडित सुपारी गौरी गणेश का रूप बन जाती है। इस सुपारी को तिजोरी में रखने पर घर में लक्ष्मी स्थायी रूप से निवास करने लगती हैं और इससे सौभाग्य आने लगता है।

 2.पूजा में इस्तेमाल की गई सुपारी को तिजोरी में रखना भी लाभदायक होता है। सुपारी को धागे में लपेटें और अक्षत,  कुमकुम लगाकर पूजा जरूर कर लें। पूजा करके तिजोरी में रखी गई सुपारी बहुत लाभदायक होती है।

व्यापार में तरक्की के लिए भी सुपारी बहुत सहायक होती है। माना जाता है कि शनिवार की रात पीपल के पेड़ की पूजा करके सुपारी और उसके साथ एक रुपये का सिक्का रखें। अगले दिन उस पेड़ का पत्ता तोड़कर लाएं उस पर सुपारी रखें और इसे अपनी तिजोरी में रखें इससे व्यापार में बढ़ोत्तरी होती है।

 पान का पत्ता रखें उस पर सिन्दूर में घी मिलाकर स्वस्तिक बनाएं और उस पत्ते पर कलावे में लपेटी हुई सुपारी रख कर पूजा करनी चाहिए। यह उपाय घर में सफलता के लिए द्वार खोलता है।

अगर आपका कोई काम बनते बनते रह जाता है या आपको किसी कार्य में लगातार असफलता मिल रही है तो जब भी उस कार्य को करने जाए तो एक लौंग और सुपारी अपने पास रख लिया करें। काम के समय लौंग को अपने मुंह में रख लें और उसे चूसें। सुपारी घर आने के बाद वापस गणेशजी के फोटो के सामने रख दें। इससे रूका हुआ काम य कीनन पूरा होगा।

सुपारी को चांदी की डिबिया में अबीर लगाकर किसी भी पूर्णिमा के दिन पूजा घर में रखें तो घर में मंगल कार्य जल्दी होते हैं।

हल्दी, कुंकु और चावल लगाकर सुपारी पर मौली लपेटें और इसे किसी भी गुरुवार को विष्णु-लक्ष्मी मंदिर में छुपाकर आ जाएं। इससे अविवाहित कन्या की शादी के योग बनते हैं। जब रिश्ता पक्का हो जाए तो सुपारी को शादी तक घर में रखें। फिर जलाशय में विसर्जित कर दें।

अगर घर में कोई भी मांगलिक कार्य हो तो उसके निर्विघ्न संपन्न होने के लिए सुपारी को बोलकर लाल कपड़े में बांधकर छुपा दें। जब कार्य अच्छे से संपन्न हो जाए तो यह सुपारी किसी गणेश मंदिर में जाकर रख दें।

घर से जब कोई तीर्थ यात्रा पर जाए तो उसके सकुशल वापिस आने तक तुलसी के गमले में सुपारी गाड़ दें। आने पर उसे धोकर किसी भी मंदिर में चढ़ा दें।                                                                                                                                                                                                                  

 सुपारी को 7 बार अपने पर से उतार कर हवन कुंड में डालने से हर तरह की अला-बला दूर होती है।

एक छोटी सी सुपारी से पैसों की कमी भी दूर होती है। श्रीयंत्र की स्थापना करके उसके बीच में यदि एक सुपारी से गणेश भगवान की पूजा करके रखी जाए तो इससे धन लाभ में सहायता मिलती है। वहीं कोई भी रूका हुआ कार्य जल्दी पूरा हो जाता है।

अगर आपके किसी काम में बार-बार कोई रुकावट आ रही है, तो गणेश चतुर्थी के दिन दाईं ओर मुड़ी हुई सूंड़ वाले गणेशजी के चित्र की लौंग और सुपारी से पूजा करें। इसके बाद जब कभी भी काम पर जाना हो, तो एक लौंग, इलायची और सुपारी अपने पास रख लें। कार्य के समय लौंग, इलायची को अपने मुंह में रख लें तथा मन ही मन ‘जय गणेश काटो क्लेश’ का जाप करते रहें। घर आने पर सुपारी को वापस गणेश जी के फोटो के सामने रख दें। इस उपाय से आपका कार्य सफल होगा।

वास्तुशास्त्र के अनुसार, तिजोरी, जहां आप पैसा, ज्वेलरी और अन्य बेशकीमती वस्तुएं रखते हैं, वह जगह पवित्र और सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर होनी चाहिए। शास्त्रों के मुताबिक, भगवान गणेश रिद्धि और सिद्धि के दाता हैं। अगर कोई भी भक्त नित्य भगवान श्रीगणेश का ध्यान एवं पूजन कर श्रीयंत्र, अभिमंत्रित सुपारी एवं गुरु मंत्र का जाप करता है, तो उसे कभी भी धन-धान्य की कमी नहीं होती है। तिजोरी पर स्वास्तिक बनाकर तिजोरी के अंदर श्रीयंत्र तथा अभिमंत्रित सुपारी चावलों के साथ रखें। इन वस्तुओं को तिजोरी में रखने से तिजोरी के आसपास के क्षेत्र में सकारात्मक और पवित्र ऊर्जा सक्रिय हो जाएगी, जो नकारात्मक शक्तियों को दूर रखेगी।

देवी और देवताओं की कृपा हेतु: दीपावली या किसी भी श्रेष्ठ मुहूर्त में किसी मंदिर में एक सुपारी और तांबे का लोटा रख आएं। इसके साथ ही कुछ दक्षिणा भी रखें। इस उपाय से भी देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त होती है

Post a Comment

Previous Post Next Post