शादी में रोटी बनाने आई लड़की से जबरन करा दिया विवाह, सुहागरात हुई तो…



राजस्थान के जोधपुर में शादी के नाम पर एक व्यक्ति ठगी का शिकार हो गया। शादी के चार दिन उसकी पत्नी ने अपने मायके से जाकर उसके द्वारा गिफ्ट किये गये मोबाइल से उसके नम्बर पर फोन किया।

उसने शादी करने वाले युवक से बात करते हुए कहा कि आपके साथ धोखा हुआ है। मैं तो शादियों में रोटी बनाने का काम करती थी, मुझें डरा धमकाकर आपके साथ भेजा गया था। जब शादी करने वाले युवक को पूरी बात मालूम पड़ी तो उसके होश उड़ गये।

अब ऐसी जानकारी निकलकर सामने आई है कि दूल्हें ने 10 लाख रुपये का कर्ज लेकर शादी की थी लेकिन बिचौलिए गंगा सिंह ने ससुर की मदद कराने के बहाने 3 लाख 50 हजार रुपये भी लिए लेकिन बाकी का खर्च शादी में अन्य रस्मों में लग गया। शादी करने वाले युवक का नाम उम्मेसद सिंह है।

उसने पुलिस से न्याय की गुहार लगाई है जिस पर मतोड़ा थाने में बिचौलिए गंगा सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 406 में केस दर्ज किया गया है।

क्या है ये पूरा मामला
दरअसल पूरा वाकया कुछ यूं हैं कि उम्मेद सिंह के घर करीब 20 दिन पहले उसकी शादी का रिश्ता लेकर गंगा सिंह और नागौर के कुछ लोग आए। तब गंगा सिंह ने कहा कि मेरी रिश्तेदारी में एक लड़की है, आपकी शादी करवा दूंगा।

यह सुनकर उम्मेद सिंह अपने मामा और भाइयों के साथ लड़की देखने निकल गए जहां पर दुल्हन पिंकू कवर के साथ रिश्ता तय कर शगुन के रूप में 500 रुपये हाथ में देखकर रिश्ता तय कर लिया।

बाद में उम्मेद सिंह के रिश्तेदारों को गंगा सिंह ने बताया कि लड़की के पिता की आर्थिक स्थिति सही नहीं है, शादी के लिए खर्चा आपको ही करना होगा और लड़की के पिता को 3 लाख 50 हजार रुपये देने होंगे।

बार-बार झूठ बोलकर पैसे की डिमांड करता रहा बिचौलिया
7 दिसंबर को उम्मेद अपने रिश्तेदारों के साथ वापस लड़की के घर नागौर गए जहां पर बिचौलिए गंगा सिंह को 2 लाख रुपये दिए गए। तब गंगासिंह ने कहा कि 11 दिसंबर को आप बारात लेकर नागौर आ जाना। गंगा सिंह ने दोनों परिवारों को यह कहा कि सगाई से लेकर शादी तक इस रिश्ते के बारे में किसी को बताना मत, अगर किसी को पता लग गया तो शादी नहीं होने देंगे।

उम्मेद सिंह को खुशी थी कि मेरी शादी हो रही है तो वह इस बात की किसी रिश्तेदार को भनक नहीं लगने दी। 11 दिसंबर की शाम उम्मेद सिंह बारात लेकर नागौर पहुंचा तो बिचौलिए गंगा सिंह ने कहा कि थोड़ी देर रुको, लड़की के परिवार में किसी की मौत हो गई है।

तब गंगा सिंह ने खुद के गांव मांगलोद बारात लेकर आने को कहा। वहां गंगा सिंह ने बकाया एक लाख पचास हजार रुपये लिए और फिर शादी करवाई।

दूल्हा, दुल्हन को लेकर गांव आया तभी गांव वालों को पता चला कि उम्मेद सिंह की शादी हो गई है लेकिन दूल्हे का आरोप है कि जब पहली बार लड़की देखने गया तब किसी और को दिखाया गया लेकिन मेरी शादी किसी और से करवाई गई, फिर भी दूल्‍‍‍‍हा शांत रहा।

लड़की ने घर जाकर लड़के को फोन कर बताई पूरी बात
शादी के 2 दिन बाद ही दुल्हन कांता को ससुराल में लेने बिचौलिया गंगा सिंह आया फिर 2 दिन बाद वापस कांता को ससुराल छोड़ आया। तब दूल्हे ने एक मोबाइल गिफ्ट किया।

उसी मोबाइल से 19 दिसंबर को कांता ने दूल्हे उम्मेद सिंह को फोन कर कहा, “मैं कांता हूं। गंगा सिंह ने आपके साथ धोखा किया है। उसने मुझे डरा-धमका कर शादी करवाई है और मुझे भीलवाड़ा छोड़ दिया है।

मैं तो नागौर 7 दिन के लिए शादी में रोटियां बनाने के लिए आई थी। 1 हजार रुपये प्रतिदिन मजदूरी के हिसाब से तय करके गंगा सिंह शादियों में रोटी बनाने के लिए मुझे लाया था लेकिन मुझे धमकाता और डराता रहा कि हम कहें, वैसा करती जाओ। डर के मारे मैंने शादी के लिए भी हां कह दी। इस मामले में पीड़ित युवक ने ठगी करने वाले आदमी के खिलाफ थाने में केस दर्ज कराया है।

Post a Comment

Previous Post Next Post