पूजा करते समय रखें इन बातों का विशेष ध्यान




हमारे हिन्दू समाज के पूजा को अपना एक अलग महत्त्व है। लेकिन पूजा के भी कई नियम है। आप रात में यानी सूर्यास्त के बाद पूजा कर रहे हैं तो शंख नहीं बजाना चाहिए। सूर्यास्त के बाद देवता सोने के लिए चले जाते हैं। शंख ध्वनि से उनकी निद्रा बाधित होती है। माना जाता है कि सूर्यास्त के बाद शंख बजाने से लाभ की बजाय हानि होती है।

# सूर्य भगवान की पूजा दिन में की जाती हैं। इसलिए दिन में अगर कोई विशेष पूजा कर रहे हैं तो साथ में सूर्य की पूजा भी जरूर करनी चाहिए। लेकिन रात्रि में पूजा कर रहे हों तब सूर्य की पूजा नहीं करनी चाहिए।


# भगवान विष्णु, कृष्ण, सत्यनारायण की पूजा में तुलसी की आवश्यकता होती है। तुलसी पत्ता के बिना इनकी पूजा पूर्ण नहीं होती है। इसलिए अगर रात में पूजा करनी हो तब दिन के समय ही तुलसी पत्ता तोड़ कर रख लें।

# गणेश जी की पूजा में दूर्वा का प्रयोग होता है। भगवान शिव, सरस्वती, लक्ष्मी और दूसरे देवताओं को भी दूर्वा चढ़ता है। इसलिए रात में पूजा करनी हो तो दिन में ही दूर्वा तोड़कर रख लेना चाहिए।

# रात में पूजा करें तो पूजा में इस्तेमाल फूल, अक्षत और दूसरी चीजों को रात भर रहने दें। इन्हें सुबह अपने स्थान से हटाना चाहिए।


Post a Comment

Previous Post Next Post