शन‍िवार को ऐसे करें पीपल की पूजा, शनिदेव होंगे खुश, होगी धन-धान्य में वृद्धि




नवग्रहों में शनि ऐसे हैं, जिनके नाम से भी लोग डरते हैं। सभी देवों और ग्रहाें में शनिदेव को कर्मफलदाता का दर्जा दिया गया है। ऐसी मान्यता है कि अगर शनि देव रुष्ट हो जाएं तो राजा को रंक और यदि किसी पर खुश हो जाएं तो उसे रंक से राजा भी बना सकते हैं। इनका दिन शनिवार है इसलिए इस दिन किया गया कार्य पूरी तरह से सावधानी के साथ करना चाहिए। ग्रथों में पीपल के पेड़ को धार्मिक स्थान दिया गया है, शास्त्रों में भी पीपल को हर तरह से लाभकारी माना गया है।

1.पीपल के पेड़ को काटने वाले के घर की सुख-समृद्धि नष्ट हो जाती है और ऐसे घर में कभी भी लक्ष्मी नहीं रूकती है। शनिदेव को तेल चढ़ाना चाहिए लेकिन इस बाद का ध्यान रखना चाहिए कि तेल इधर-उधर गिरे न। तेल को सावधानी से इस्तेमाल करें।

2. शनिवार के दिन पीपल के पेड़ पर शनिदेव की मूर्ति के पास तेल चढ़ाएं या फिर उस तेल को गरीबों में दान करें।

3.पीपल की पूजा से शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है, इसके मुताबिक, अगर कोई पीपल के वृक्ष को नुकसान पहुंचाता है, तो उसे शनि का कोप झेलना पड़ सकता है।

4.पीपल को भगवान विष्णु का वरदान मिला है, जो कोई शनिवार को पीपल के पेड़ की पूजा करेगा, उस पर लक्ष्मी की कृपा सदा बनी रहेगी।


5.शनिवार को काला तिल और गुड़ चीटों को खिलाएं। इसके अलावा शनिवार के दिन चमड़े के जूते चप्पल दान करना भी अच्छा रहता है।

6.अगर कोई पीपल को कटते हुए देखता भी है, तो उसे भी शनिदोष लगता है, पीपल की पूजा के बिना इस पाप से मुक्ति नहीं मिलती है।

7.जो जातक धन की कमी से परेशान है, उसे शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा अवश्य करनी चाहिए।

Post a Comment

Previous Post Next Post