जानिए क्यों हाथ पर काला धागा बांधा जाता है, आस्था और अंधविश्वाश का है पूरक`#`




दुनिया में धर्म और अंधविश्वास एक दूसरे के पूरक हैं. दोनों ही एक दुसरे के बिना अधुरे है. जो व्यक्ति धर्म को मानते हैं उनके लिए कई चीजे आस्था और विश्वास का प्रतीक होती है, वही चीज उन व्यक्तियों के लिए अंधविश्वाश होती है जो धर्म को नहीं मानते हैं.

कई व्यक्तियों के हाथ या पैर पर आपने काला धागा बंधा हुआ देखा होगा. कई व्यक्ति इसे बुरी नजर से बचने के लिए बंधते है तो कुछ किसी बीमारी से निजात पाने के लिए शरीर के किसी अंग पर काला धागा बांधते है. हर कोई किसी न किसी कारण धागा बांधता है.




अधिकांश व्यक्ति शनि देव को भी मानते है उनके आशीर्वाद स्वरूप हाथ या गले में काला धागा बांधते है.

क्यों पहनते है काला धागा?

काला धागा हाथ या पैर में बांधने से किसी की नजर नहीं लगती है. जो व्यक्ति धर्म में विश्वाश रखते है उनके लिए यह बात सच ही लेकिन जो धर्म को नहीं मानते है उनके लिए इस तरह की बनाते महज अंधविश्वाश के समान होती है. कई बार घर में देखा जाता है की जब बच्चे के जन्म होता है तो उसे बुरी नजर से बचने के लिए काला टिका या फिर काला धागा बांधा जाता है.



नकारात्मक उर्जा को रखता है दूर :-


वैज्ञानिक ढंग से देखा जाए तो काला रंग ऊष्मा का अवशोषक होता है. मान्यता के अनुसार काला रंग बुरी चीजों को अवशोषित कर लेता है. और आपको बुरी चीजों से बचाता है.

Post a Comment

Previous Post Next Post