जिस बेटी को बड़े नाज से पाला, मोहब्बत करने पर उसको ही परिवार ने दे दिया बेहद खौफनाक सजा

जेवर में अपने पति के साथ शादी के सपने देखने वाली आखों को परिवार वालों ने बेदर्दी के साथ ही हमेशा-हमेशा के लिए बंद कर दिया। दस्तमपुर गांव की रहने वाली एक लड़की निशा इंतजार में थी कि पिता के रिटायर होने के बाद उसकी शादी सुनील से कर दी जाएगी। निशा को इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं था कि उसका यह इंतजार उसके परिवार वाले कभी भी पूरा नहीं होने देंगे।




धनसिया के ग्राम प्रधान विमलेश देवी का बेटा सुनील और दस्तमपुर निवासी देवीचरण की बेटी निशा ने 12वीं की परीक्षा पास करने के बाद से ही खुर्जा के एनआरईसी कॉलेज में स्नातक के लिए दाखिला लिया था। सुनील ने बीएससी और निशा ने बीए में प्रवेश लिया। कॉलेज में पढ़ाई करने के दौरान ही दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं और प्यार परवान चढ़ा। इसके बाद निशा ने डबल एमए और बीएड की डिग्री ले लिया। सुनील ने भी बीएड किया। निशा के पिता बीएसएफ में तैनात हैं, जबकि सुनील के पिता धनसिया के ग्राम प्रधान और एक कंपनी में मैनेजर हैं।

कुछ दिनों के बाद जब दोनों के परिजनों को उनके संबंध की जानकारी मिल गई तो दोनों को अलग करने का प्रयास किया गया। शायद उन्हें इस बात का अंदाजा हो गया था कि परिवार वाले उनके रिश्ते को स्वीकार करने से मना कर सकते हैं, इसलिए दोनों ने एक साल पहले ही गाजियाबाद जाकर कोर्ट मैरिज कर लिया था। दोनों के परिजन इस शादी से बेहद नाखुश थे।



और फिर बाद में इस मामले को लेकर दोनों परिवारों के बीच सहमती बनी कि लड़की के पिता के रिटायर हो जाने के बाद पूरे रीति रिवाज के साथ दोनों की शादी कर दी जाएगी। इस फैसले के बाद से युवती अपने मायके दस्तमपुर में रहने लगी।


गुरुवार को ही निशा, मां ऊषा के साथ पड़ोस के एक महिला संगीत कार्यक्रम में गई थी। रात करीब 12 बजे कार्यक्रम से लौटने के बाद परिजनों ने निशा को छत पर भेज दिया। जहां पर उसकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। ग्रामीणों ने पुलिस व पति सुनील को निशा की मौत होने की जानकारी दे दी।


इसके बाद सुनील ने निशा की मां ,चाचा, चाची, जीजा व भाइयों समेत सात के खिलाफ शिकायत किया है, जिसके बाद उसकी मां को हिरासत में ले लिया गया। इतना ही नहीं, सुनील ने ये भी आरोप लगाया है कि निशा के परिवार वालों ने कुछ समय पहले रीति रिवाज से शादी करने के लिए अपनी मांग रखी थी। उनका कहना था कि पत्नी के नाम या तो 10 बीघा खेत या फिर नोएडा में फ्लैट खरीदना होगा।

परिजनों की मांग को पूरा करते हुए सुनील ने ग्रेटर नोएडा के जीटा वन में 50 लाख का फ्लैट खरीदने का भी सौदा किया था। इसमें से करीब 35 लाख का भुगतान भी किया जा चुका है। अब निशा की मौत के बाद सुनील भी गहरे सदमे में है। उसकी तहरीर पर पुलिस परिवार के कई सदस्यों पर मुकदमा दर्ज कर जांच में जुटी हुई है

Post a Comment

Previous Post Next Post