मजे के लिए अजनबियों के साथ सीरियल किलर करता था ये काम, जानकर होंगे हैरान


हाल ही में दिल्ली और बिहार में 10 कत्लों को अंजाम देने वाले सीरियल किलर को गुरुग्राम पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने कहा कि उसे गुरुग्राम के इफ्को चौक से गुरुवार को गिरफ्तार किया गया था, इससे पहले उसने सेक्टर 29 और सेक्टर 47 में लगातार तीन दिन कथित तौर पर तीन लोगों की हत्या की थी। जांच जारी है और राज्य के बाहर की गई कथित हत्याएं अभी तक प्रमाणित नहीं हुई हैं।

पुलिस को कातिल का पता सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद चला. हाल में हुए तीन मर्डर में मौके पर एक ही कातिल को देखा गया. इसलिए पुलिस ने एक मैनहंट लॉन्च किया और गुरुवार को उन्हें दोषी मिल गया। इस सीरियल किलर का परिवार बिहार में रहता है। अपने पिता के गिरफ्तार होने के बाद मोहम्मद राजी बताते हैं कि लोग उसके पिता को ‘साइको राजी’ के नाम से जानते हैं। किलर के बेटे मोहम्मद राजी ने बताया कि अपने आप को अच्छा महसूस करवाने के लिए वो लोगों की जानें लेता था, वो दुनिया को बताना चाहता था कि वो कुछ भी हासिल कर सकता है इसलिए उसने लोगों को मारना शुरू किया।

बिहार के अररिया जिले के खलीलाबाद गांव में रहने वाले राजी ने गुरुग्राम में विभिन्न निर्माण स्थलों पर एक मजदूर के रूप में काम किया। पुलिस आयुक्त केके राव के अनुसार, सितंबर में गुरुग्राम जाने से पहले, उसने सड़क के किनारे भोजनालय और जामा मस्जिद के पास एक गेस्ट हाउस में काम किया। जुलाई तक वो दिल्ली चला गया, उसने नेपाल में भी काम किया।

पुलिस के सहायक आयुक्त (अपराध) प्रीत पाल सांगवान ने कहा कि राज़ी के काम करने का तरीका एक जैसा था: वह अपने पीड़ितों के साथ शराब पीता था, उन्हें छुरा घोंपता था और कुछ मामलों में वो लाशों के टुकड़े भी कर देता था। उन्होंने बताया, :”उन्हें मारने का उनका कोई मकसद नहीं था, उसे बस लोगों को मारने में मजा आता था, फेमस होने का ये एक आसान तरीका है। वह एक ड्रग एडिक्ट है और पैसे खर्च करता है. अपने ये ही पैसा वो विक्टिम्स से चुराता है।”

पूछताछ के दौरान, उसने अपने आपराधिक अतीत के बारे में जानकारी साझा की और कहा कि उसने शराब पीने के बाद अक्टूबर में गुरुग्राम और आसपास के इलाकों में लोगों को मारना शुरू कर दिया। बाद में पता चला कि वह उन्हें लूटने भी लगा था। उसके निशाने पर पार्क जासी जगहें रहती थी। जिन लोगों की जान उसने ली थी उसमें से ज्यादातर लोग उसके लिए अजनबी थे।

पुलिस आयुक्त केके राव ने कहा कि पिछले तीन महीनों में कम से कम 20 हत्या के मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें से कुछ को हल नहीं किया गया है। उन्होंने कहा, “वह दिल्ली में कुछ मामलों में शामिल रहा है, लेकिन अभी तक कोई भी जानकारी नहीं मिली है। हम दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और एक टीम को उसकी हिस्ट्री और हत्या के मामलों के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए भेजा जाएगा जहां उसने काम किया था।

Post a Comment

Previous Post Next Post