रोज सुबह सूर्य को जल देने से बन सकते हैं धनवान जाने की सही विधि क्या ~

 हर रोज सुबह सूर्य हिंदू पंचांग के अनुसार हर कोई अपने अपने भगवान की पूजा करते हैं दिसंबर में पौष का महीना शुरु हो जाता है। कई लोग कहते हैं पौस का महीना अशुभ माना जाता है।लेकिन शास्त्रों के अनुसार इस महीने में शुभ कार्य जैसे शादी विवाह रामायण हरि कीर्तन गृहप्रवेश कोई भी शुभ काम इस महीने में नहीं करना चाहिए।

 उसके साथ-साथ कोई भी नई दुकान नए सामान नहीं खरीदना चाहिए। इस महीने में कोई भी नया काम शुरू नहीं करना चाहिए अशुभ माना जाता है। इस महीने में धंधे में रुकावट आती है थोड़ी सी परेशानियां बढ़ जाती है। इसलिए सोच विचार का कोई भी काम आपको इस महीने में शुरू करनी चाहिए।

सूर्य को जल चढ़ाने के लिए रोज सुबह सूर्योदय से पहले ही बिस्तर छोड़ देना चाहिए। जल्दी उठें और उठने के बाद स्नान करें।

स्नान के बाद तांबे के लोटे से सूर्य को अर्घ्य अर्पित करें। जल चढ़ाते समयपूर्व दिशा की ओर ही मुख करके ही सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए।

जल चढ़ाते समय सूर्य मंत्र ऊँ सूर्याय नम: का जाप करते रहना चाहिए।

सूर्य को जल चढ़ाने के बाद परिक्रमा अवश्य करनी चाहिए। भविष्य पुराण के अनुसार सूर्यदेव का ध्यान करते हुए परिक्रमा करने से हमारी सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं।

जल चढ़ाने के बाद ध्यान रखें वह पानी आपके पैरों में नहीं आना चाहिए। क्यों कि यह अशुभ माना गया है जो आपको ही हानिकारक हो सकता है 

Post a Comment

Previous Post Next Post