माथे पर क्यों लगाया जाता है तिलक, जानें कारण $

हिंदु धर्म मान्यताओं में लिप्त है। शादी-ब्याह, जन्म, मृत्यु, नामकरण जैसे मौक़े पर कुछ परंपराएं होती हैं जिनका पालन किया जाता है। ऐसी ही एक परंपरा है कि माथें के मध्य में तिलक का लगाना।

तिलक का महत्व:

हिन्दू धर्म में तिलक लगाना एक महत्वपूर्ण परंपरा है जो सदियों से चली आ रही है। किसी धार्मिक काम के लिए गए है तो माथे में टिका जरुर होना चाहिए। नहीं तो आपकी पूजा बेकार जाती है।



चावल है शान्ति का प्रतीक:

तिलक लगाने के बाद चावल का इस्तेमाल किया जाता है। चावल शांति का प्रतीक मान जाता है। इसलिए तिलक लगाने के बाद चावल लगाया जाता है।

वैज्ञानिक महत्व:

मस्तिष्क के जिस स्थान पर तिलक लगाया जाता है, उसे आज्ञाचक्र कहा जाता है। शरीर शास्त्र के अनुसार यहां पीनियल ग्रंथि होती है। तिलक पीनियल ग्रंथी को उत्तेजित बनाए रखती है। ऐसा होने पर मस्तिष्क के अंदर दिव्य प्रकाश की अनुभूति होती है।

Post a Comment

Previous Post Next Post