होटल पर मारा छापा तो बुरे हाल में थी लडकियां, मिला ऐसा-ऐसा सामान...


उत्‍तर प्रदेश की ताजनगरी आगरा में देह व्यापार और मानव तस्करी के धंधे पर रोक लगाने के पुलिसिया दावे पूरी तरह फेल नजर आ रहे हैं। शहर में सेक्स रैकेट की सबसे बड़ी सरगना रोशनी के गैंग पर ऐक्‍शन के बाद पुलिस ने इस धंधे के बंद होने का दावा किया था पर ताजमहल खुलने के बाद से एक बार फिर यहां कदम-कदम पर देह व्यापार के अड्डे शुरू हो गए हैं। रविवार को पुलिस ने बालूगंज क्षेत्र में होटल आरबी रेजीडेंसी पर छापा मारकर देह व्यापार रैकेट का भंडाफोड़ किया। इस दौरान मुख्य आरोपियों के फरार हो जाने से स्थानीय पुलिस पर मिलीभगत का शक भी हो रहा है।

जानकारी के मुताबिक, सीओ सदर महेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस ने होटल आरबी रेजीडेंसी पर छापा मारा। पुलिस के पहुंचने से पहले सूचना लीक होने के कारण होटल संचालक और अन्य मुख्य आरोपी मौके से फरार हो गए। मौके से दो युवक और पांच युवतियां पकड़ी गईं। होटल से आपत्तिजनक वस्‍तुएं भी बरामद की गई हैं। शुरुआती जांच में पकड़े गए सभी आरोपी आगरा और आसपास के बताए जा रहे हैं।

इंटरनेट और एजेंट बने संचालकों के मददगार

गौरतलब है कि आगरा में देह व्यापार का धंधा एजेंट और इंटरनेट के भरोसे जोरों पर चल रहा है। इंटरनेट पर संचालक स्पा, स्‍कॉर्ट सर्विस जैसे नाम से रजिस्ट्रेशन कराते हैं और मोबाइल नंबर पर कॉल आने पर ग्राहक को अपनी जगह पर बुलाते हैं। इसके साथ ही एजेंट अपने फिक्स कस्टमरों को इन अड्डों तक पहुंचाकर अपना कमीशन बनाते हैं।

होटलों पर नहीं हो पाती कार्रवाई

आगरा को यूपी की पर्यटन राजधानी का दर्जा दिया गया है और इसी कारण यहां छोटे-बड़े होटलों की भरमार है। सिर्फ यात्रियों के दम पर इन होटलों का खर्च निकलना मुश्किल हो रहा है। होटल मालिकों ने इसको देखते हुए किराएनामे को हथियार बना लिया है। होटल संचालक गलत व्यक्ति को होटल किराए पर देते हैं या अपने खास का किरायानामा कर होटल में देह व्यापार करवाते हैं। पुलिस कार्रवाई होने पर होटल के नाम में हल्का फेरबदल कर कुछ ही दिन में फिर से धंधा शुरू हो जाता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post