शनिवार के दिन ये खास काम करते समय रखे इन 5 बातो का खास ध्यान . शनिदेव होंगे खुश

शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए 10 ज्योतिष उपाय(10-astrological...


 शनि देव के बारे में माना जाता है कि इनके न्याय विधान से कोई बच नहीं सकता.

अगर शनि देव किसी पर नाराज हो जाएं तो उसे जीवन में कई परेशानी का सामना करना पडता है.

शनि देव के नाराज होने से जीवन में कई काम में रुकावटें आने लगती है इसके साथ साथ शारीरिक परेशानी का भी सामना करना पडता है.

ऐसे में अगर किसी की कुंड़ली में शनि की स्थिति अशुभ है तो ऐसे व्यक्ति को जीवन में कई परेशानी का सामना करना पडता है.

इनको जीवन में कोई भी सफलता आसानी से नहीं मिलती. शनि की बुरी नजर से कैसे बचा जाय

और शनि की कृपा कैसे प्राप्त की जाय इसके लिए प्रयास करना चाहिए जिससे शनि की स्थिति को शुभ बनाया जा सकें.

ज्योतिषशास्त्र में शनि को प्रसन्न करने के लिए कुछ आसान से उपाय बताएं गये है जिनको करने से शनि की टेढ़ी नजर से बचा जा सकता हैं.

इस बात का हमेशा ध्यान रखें की कभी भी शनि की किसी ऐसी मूर्ति के दर्शन ना करें जिसमें शनि देव की आंख बनी हो.

हर शनिवार के दिन लाल वस्त्र धारण कर हनुमान जी के दर्शन करने से शनि के कुप्रभाव से बचा जा सकता है.

हर शनिवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें इस पाठ के कारण शनि के अशुभ प्रभाव से बचा जा सकता है.

हमेशा शाम के समय पश्चिम दिशा की ओर दीपक जलाएं व इसके बाद शनि देव के मंत्र का जाप करें.

शनि की कुदृष्टी के बचने के लिए घर में सभी लोगो के साथ अच्छा व्यवहार रखें.

शनिवार के दिन हमेशा नीले रंग के कपडें पहने जिससे शनि देव प्रसन्न होते हैं.

शनिवार के दिन शनि देव के मूल मंत्र 'ॐ शं शनैश्चराय नमः' का जाप अवश्य करें इससे शनि देव प्रसन्न होते हैं.

जो लोग गरीबी से मुक्ति चाहते हैं, उन्हें खुद की मेहनत के साथ ही ज्योतिष में बताए गए उपाय करने से लाभ मिल सकता है. मान्यता है कि शनिदेव हमारे कर्मों का फल प्रदान करते हैं.

कुंडली में शनि अशुभ हो तो हर शनिवार शनिदेव को तेल चढ़ाना चाहिए. यह उपाय सभी राशि के लोग कर सकते हैं.

जो लोग ये उपाय नियमित रूप से करते रहते हैं, उन्हें साढ़ेसाती और ढय्या में भी शनि की कृपा प्राप्त होती है.

कुछ ऐसी बातें जो शनि को तेल चढ़ाते समय ध्यान रखनी चाहिए.

अगर इन बातों को ध्यान में रखते हुए शनिदेव को तेल चढ़ाया जाए तो वे जल्दी प्रसन्न होते हैं और भक्त की दुर्भाग्य से रक्षा करते हैं.

पहली बात

शनिदेव को हमेशा लोहे के बर्तन से ही तेल चढ़ाना चाहिए. कांच, तांबा या स्टील की कटोरी से तेल चढ़ाने पर उसका पूरा लाभ नहीं मिलता.

दूसरी बात

शनिदेव को जो तेल चढ़ाना है, वह पूरी तरह शुद्ध होना चाहिए. इसलिए मंदिर के बाहर से तेल खरीदने की जगह अपने घर से तेल लेकर जाएंगे तो ज्यादा शुभ रहेगा.

तीसरी बात

तेल चढ़ाने से पहले तेल में अपना चेहरा जरूर देख लेना चाहिए. ऐसा करने से शनि के सभी दोषों से मुक्ति मिल सकती है.

चौथी बात

शनि देव को तेल चढ़ाते समय शनिदेव के पैरों के दर्शन करना चाहिए. भगवान के पैरों के दर्शन करते हुए तेल अर्पित करना बहुत शुभ माना जाता है.

पांचवीं बात

शनिदेव को तेल अर्पित करने के साथ ही अपनी इच्छा अनुसार धन का दान भी करना चाहिए. ये दान आप शनि मंदिर में या किसी जरूरतमंद व्यक्ति को कर सकते हैं.

Post a Comment

Previous Post Next Post