आपको करोड़पति बना सकता है 1 रूपए का नोट!

आपको करोड़पति बना सकता है 1 रूपए का नोट!


क्या आपने कभी सोचा है कि 1 रूपए का नोट आपको करोड़पति बना सकता है। यदि नहीं सोचा तो अब सोच लीजिए, क्योंकि हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऎसा कि जिसे पढ़कर शायद आप यकीन ना कर पाएं लेकिन देश में फिलहाल ऎसा ही हो रहा है।

 रोजाना हमारे पास कई नोट आते हैं जिन्हें हम दुकानदार देते हैं या बैंक में जमा करा देते हैं, लेकिन उनमें से कई नोट ऎसे भी होते हैं जिनके सीरियल नंबर काफी दुर्लभ होते हैं। दुनिया भर में ऎसे शौकीन लोग भी है जिन्हे दुर्लभ नोट जमा करने का शौक है। इसी शौक के चलते वो आपके नोट को करोड़ों में खरीद सकते हैं। इस एक उदाहरण ई-कॉमर्स वेबसाइट ईबे पर देखा जा सकता है, जहां 1 रूपए से लेकर 1000 रूपए तक के नोट की नीलामी करोड़ों में हो रही है।

1 रूपए का नोट 200,000 रूपए में
ईबे पर मोंटेक सिंह अहलूवालिया के हस्ताक्षर वाला 1 रूपए का नोट 200,000 रूपए में बेचा जा रहा है।

100 रूपए का नोट 2.5 लाख में
इबे पर ही 100 रूपए के दो नए नोट 250,000 रूपए में बेचे जा रहे हैं क्योंकि उसके सीरियल नंबर के आखिर में 786 और छह जीरो (000000) हैं।

1000 रूपए का नोट 1 करोड़ में
इसी तरह 1000 रूपए का भी लगभग 1 करोड़ रूपए में बेचा जा रहा है। इस नोट को बेचने वाले का दावा है कि उस सीरीज के कुछ नोट पर प्रिंट के समय इंक गिर गया है और उसके सीरियल नंबर भी काफी दुर्लभ हैं।

10 रूपए का नोट 1 लाख रूपए में
10 रूपए का यह नोट 786 सीरियल नंबर वाला है तथा ईबे पर इसे 1 लाख रूपए में बेचा जा रहा है।

नोट की है अलग कैटेगरी
इनमें से कुछ नोट ऎसे भी हैं जो मिसप्रिंट वाले हैं या उनमें सीरियल नंबर नहीं हैं उन नोट्स की कीमत भी लाखों में है. यहां अलग-अलग तरीके के नोट की लिस्ट है जिनमें मिसप्रिंट, एरर, फैंसी नंबर्स, 786, 500 श्वrrश्r और दुर्लभ नोट शामिल हैं.


नोट की नीलामी
ईबे पर ज्यादातर नोटो की बोली लगाई जाती है। इसी के चलते जो ज्यादा रूपए की बोली लगाएगा उसे ये नोट दिया जाएगा। इसके अलावा दिलचस्प बात यह भी है कि कुछ नोट ऎसे भी हैं जिनमें दो अलग सीरियल नंबर और उन्हें 5000 से 1000 तक में बेचा जा रहा है।

आपके हाथ भी आ सकता है मौका
अब अगली बार आप किसी भी नोट को दुकानदार को देने या बैंक में जमा करने से पहले ध्यान से जरूर देखें, क्योंकि हो सकता है वो नोट आपको भी करोड़पति बना सकता है।


Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...