वास्तुशास्त्र के द्वारा घर के खर्चों को कैसे कम करें? और समृद्धि प्राप्त करें

वास्तुशास्त्र के द्वारा घर के खर्चों को कैसे कम करें? और समृद्धि प्राप्त करें

वास्तुशास्त्र वो विज्ञान है जिस से घर में सुख शांति और धन को बढ़ावा दिया जा सकता है। घर बनाते समय वास्तु आदि का विशेष ध्यान रखना चाहिए। अगर वास्तु के हिसाब से घर में वस्तुओं को व्यवस्थित किया जाए तो घर के खर्चों को कम किया जा सकता है और एक मोटी रकम की बचत की जा सकती है और अपार धन कमाया जा सकता है। वास्तु का प्राचीन विज्ञान पैसे बढ़ाने और स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए कई युक्तियां प्रदान करता है।  आज हम इस लेख में वास्तु से संबंधित उन बातों को बताएंगे जिस से आप घर के खर्चों को कम किया जा सकता है।

घर में कीसी तरह का टूट हुआ बर्तन ना रखें क्योंकि टूटे हुए बर्तन से नकारात्मक ऊर्जा पैदा होती है जिस से घर की आर्थिक स्थिति खराब हो जाती है। प्राय टूटा हुआ बर्तन भीख का प्रतीक होता है अतः टूटे बर्तनों को घर से बहार फेंक देना चाहिए। जिस से घर का धन व्यर्थ के कामों में लगने लग जाता है। अगर घर में छोटे बच्चे ज्यादा हो और मिट्टी के बर्तनों का टूटने का दर रहता है तो स्टील के बर्तनों का प्रयोग किया जा सकता है।

घर के मुख्य द्वार के आगे जूते अथवा चप्पल नहीं उतारने चाहिए ये घर में सकारात्मक ऊर्जा को आने से रोकते है। जिस से घर में अवसाद की स्थिति बनी रहती है और व्यवसाय में उचित लाभ नहीं हो पाता है अतः इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए हो सके तो जूते आदि रखने के लिए एक स्टेंड बना लेवे तथा जूते उसी में रखे। 

घर में एक मछली घर रखा जाना चाहिए जो तथा उसमें सुंदर रंग बिरंगी मछलियों को रखा जाना चाहिए क्योंकि यह सिर्फ घर की सुंदरता ही नहीं बढ़ाता अपितु वास्तु का यह दावा है इस से घर की आर्थिक स्थिति अच्छी होती है और घर में शांति का वास होता है। वास्तु के अनुसार, मछली के टैंक या मछलीघर को दूसरे कमरे में रहने वाले कमरे के दक्षिण-पूर्वी दिशा में या उत्तर दिशा में रखा जाना चाहिए, एक एक्वैरियम सद्भाव और सफलता की मुख्य कुंजी बन सकता है।

घड़ी घर में समय को बताने का एक विशेष यंत्र होता है। बंद घड़ी को अशुभ माना जाता है क्योंकी जो व्यक्ति समय के अनुसार नहीं चलता वह हमेशा औरों से पीछे रहता है और आर्थिक एवं सामाजिक रूप से पिछड़ता जाता है। अतः घर में बंद घड़ियों को तुरंत सही करवाना चाहिए। बंद घड़ी आपके वित्त में देरी या स्थिरता का प्रतीक हैं। वास्तु का सुझाव है कि उत्तर या उत्तर-पूर्व दिशा में घड़ियां लगाने से धन और समृद्धि लाना होगा।

बेडरूम की खिड़कियां को हर दिन कम से कम 20 मिनट के लिए खुली रहें और ताजा हवा में प्रवाह को रूम में आने दें।  उचित वेंटिलेशन और पर्याप्त प्राकृतिक प्रकाश घर में सकारात्मक ऊर्जा लाते है और इसके साथ ही धन के प्रवाह को ही बनाए रखते है। वास्तु के अनुसार  दक्षिण में अपने सिर को रखकर सोना चाहिए।

घर में और भी बहुत से वास्तु दोष हो सकते है उनसे बचने के लिए घर में पाँच मुखी बालाजी या गणेश जी पार्टीमा को विराजित करना चाहिए। क्योंकि पाँचमुखी बालाजी को वास्तु दोष का निवारक माना गया है जिस से आप में भी सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

घर के मुखिया के बेडरूम के मेन गेट के सामने वाली दीवार को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है इसे भाग्य की दीवार कहा जाता है अतः इस दीवार और गेट के सामने कोई बाधा नहीं होनी चाहिए। भारी भरकम वस्तुओं को बीच में नहीं रखना चाहिए। और इस दीवार पर कोई भी दरार आदि आ जाने पर तुरंत ही सही करवा लेनी चाहिए। 

घर के आंगन में तुलसी का पौधा रखना चाहिए। अगर पूर्व या उत्तर दिशा में तुलसी लगाएंगे तो आत्म विश्वास में बढ़ोतरी होती है। सुबह-सुबह तुलसी को जल अर्पित करें। शाम को तुलसी के पास दीपक जलाएं। जिसने धन और समृद्धि में वृद्धि होती है।

इन तरीकों को दैनिक जीवन में अपना कर घर की धन से संबंधित समस्याओं को दूर किया जा सकता है। और आप तरक्की और समृद्धि के मार्ग पर अग्रेषर हो सकते है। 

Post a Comment

Previous Post Next Post