यदि आपके घर में हैं यह पौधा, तो आने वाले संकटों का देगा संकेत

यदि आपके घर में हैं यह पौधा, तो आने वाले संकटों का देगा संकेत -

हमारे देश में बहुत से पेड़ पौधे पाए जाते हैं और सभी पेड़-पौधों का अपना अलग अलग ही महत्व होता है कोई पौधा हमारे लिए अच्छा होता है तो कोई पौधा हमारे लिए बुरा भी हो सकता है सभी पौधों के गुण भी अलग-अलग होते हैं परंतु आपकी जानकारी के लिए बता दे कि तुलसी के पौधे की महत्ता दूसरे पौधे की तुलना में कुछ ज्यादा ही होती है तुलसी को पवित्र पौधा माना जाता है और घरों में तुलसी का पौधा लगाकर उसकी पूजा भी की जाती है जब किसी भी प्रकार की कोई मुसीबत परिवार पर आने वाली होती है तो उसका प्रभाव सबसे पहले तुलसी के पौधे पर ही पड़ता है इस तुलसी के पौधे के पत्ते काले पड़ जाते हैं और झड़ने लगते हैं आप इस पौधे की कितनी भी अच्छी तरह से देख रेख कर लीजिए परंतु यह पौधा सूखने लगता है एकमात्र तुलसी का पौधा ऐसा है जो मुसीबत आने से पहले ही इसका संकेत करा देता है।

यदि हम पुराणों और शास्त्रों के अनुसार देखे तो तुलसी को माता लक्ष्मी जी का रूप माना गया है इसीलिए जिस घर में तुलसी का पौधा होता है और घर पर मुसीबत आने वाली होती है तो यह तुलसी का पौधा सूख जाता है और तुलसी के पौधे का सूखने का मतलब है लक्ष्मी जी घर से चली गई है क्योंकि दरिद्रता अशांति और क्लेश जहां पर होता है वहां पर लक्ष्मी जी वास नहीं करती है आज हम आपको इस लेख के माध्यम से तुलसी के क्या-क्या फायदे होते हैं इसकी जानकारी देने जा रहे हैं।

तुलसी वास्तु दोष भी दूर करती है:-
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि घर में तुलसी के पौधे का होना एक वैद्य समान माना जाता है यह वास्तु के दोष को भी दूर करने में सहायक होती है हमारे शास्त्र में इसके गुणों के बारे में बहुत सारे उल्लेख किए गए हैं जन्म से लेकर मृत्यु तक यह तुलसी का पौधा काम आती है तुलसी का पौधा हमारे घर के समस्त दोष को दूर करने और हमारे जीवन को निरोग और सुखमय बनाने में सक्षम होती है माता के समान सुख प्रदान करने वाली तुलसी का वास्तु शास्त्र में विशेष स्थान दिया गया है।

घर में अलग-अलग स्थान पर रखने के फायदे:-
यदि आप तुलसी का गमला रसोई के पास रखते हैं तो इससे पारिवारिक कलह दूर होता है।

यदि आप तुलसी का गमला पूर्व दिशा की खिड़की के पास रखते हैं तो इससे अगर आपका पुत्र जिद्दी है तो इससे उसका हठ दूर हो जाता है।

यदि आपके घर की कोई संतान अपनी मर्यादा से बाहर है मतलब नियंत्रण में नहीं है तो तुलसी के पौधे को पूर्व दिशा में रखिए और इसके 3 पत्ते किसी न किसी रूप में संतान को खिला दीजिए यदि आप ऐसा करते हैं तो संतान आज्ञा अनुसार व्यवहार करने लगता है।

यदि आपकी कन्या के विवाह में देरी हो रही है तो अग्नि कोण में तुलसी के पौधे को कन्या नित्य जल अर्पण करके एक प्रदक्षिणा करने से विवाह शीघ्र और अनुकूल स्थान में हो जाता है।

यदि आपका व्यापार ठीक नहीं चल रहा है तो दक्षिण पश्चिम में रखें तुलसी के गमले पर प्रति शुक्रवार को सुबह कच्चा दूध अर्पण कीजिए और मिठाई का भोग रखकर किसी सुहागन स्त्री को मीठी वस्तु देने से आपके व्यापार में सफलता प्राप्त होती है।

Post a Comment

Previous Post Next Post