शनि कृपा से आ जायेंगें अच्छे दिन, शनिवार को कर लें ये काम

शनि कृपा से आ जायेंगें अच्छे दिन, शनिवार को कर लें ये काम

आमतौर से लोगों की यही धारणा रहती है कि शनि देव हमेशा अशुभ फल देते हैं। यह हमेशा लोगों को दुख प्रदान करते हैं, लेकिन सही मायने में देखा जाए तो यह बिल्कुल गलत है। जो व्यक्ति शनि देव को अपने सच्चे मन से याद करता है, उस व्यक्ति के जीवन के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और जीवन सुख-समृद्धि से परिपूर्ण हो जाता है। मनुष्य को अपने जीवन में शनिदेव का सकारात्मक प्रभाव मिल सकता है परंतु आपको न्याय के मार्ग पर चलना होगा। शनिदेव को न्याय का देवता कहा गया है। यह मनुष्य के कर्मों के अनुसार ही फल प्रदान करते हैं। अच्छे लोगों के ऊपर इनकी कृपा दृष्टि हमेशा बनी रहती है, परंतु जो लोग बुरे कर्म करते हैं उनको शनिदेव के दंड को भुगतना पड़ता है।

न्याय के देवता हैं शनि देव

शनि देवता हमेशा सभी लोगों के साथ बराबर का न्याय करते हैं। यह आम लोगों के साथ ही नहीं बल्कि देवी-देवताओं के साथ भी उचित न्याय करते हैं। पिता सूर्य देव और गुरु तक इन्होंने एक समान न्याय किया था। जब राजा हरिश्चंद्र को अपने दान देने के गुण पर अभिमान हो गया था तब उनको भी शनि प्रकोप की प्राप्ति हुई थी। माता पार्वती का सती होना भी इसी का अंश था।

शनि कृपा प्राप्ति के लिए करें यह काम

अगर आप शनि के कष्टों का निवारण करना चाहते हैं तो शनिवार के दिन किसी भी शनि मंदिर में जाकर काले कपड़े, काली उड़द, काले तिल और तेल अर्पित कीजिए।

आप शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा कीजिए और पीपल के वृक्ष के पास दीपक जलाएं।

अगर आप शनिदेव की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो शनिदेव की पूजा के दौरान इनकी आंखों में ना देखें। आप इनके चरणों की तरफ देखिए।

अगर आप शनि की दशा को शांत करना चाहते हैं तो इसके लिए आप शुक्रवार की रात को 800 ग्राम काले तिल पानी में भिगो लीजिए, इसके बाद शनिवार की सुबह आप इसको पीसकर गुड़ मिलाकर 8 लड्डू बनायें और किसी काले घोड़े को खिला दीजिए। आपको यह उपाय आठ शनिवार तक करना होगा। इस उपाय को करने से शनि की दशा समाप्त होती है।

यदि कोई व्यक्ति शनि दोष से पीड़ित है तो ऐसी स्थिति में उस व्यक्ति को भगवान शिव, सूर्य देव और हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए। अगर आप शनिवार के दिन इनकी पूजा करते हैं तो शीघ्र ही आपको शनि दोषों से मुक्ति प्राप्त होगी।

आप शनिवार के दिन लोहे का त्रिशूल भगवान शिव, काल भैरव, महाकाली मंदिर में अर्पित कीजिए। इससे शनि का प्रकोप शांत होता है।

अगर आप बहते हुए पानी में नारियल प्रवाहित करते हैं तो इससे शनि दोष दूर होते हैं।

आप शनिवार के दिन सुबह और शाम हनुमान चालीसा का जाप करें।

अगर कोई व्यक्ति शनि पीड़ा से परेशान चल रहा है तो उसको इस बात का ध्यान रखना होगा कि रात के समय दूध का सेवन ना करें।

आप शनि शांति के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जाप कर सकते हैं, इसके अलावा सात मुखी रुद्राक्ष भी शनि शांति के लिए धारण किया जा सकता है, इससे आपको लाभ मिलेगा।

Post a Comment

Previous Post Next Post