क्या आप जानते हैं मंगलसूत्र केवल सुहाग की निशानी ही नहीं बल्कि....

क्या आप जानते हैं मंगलसूत्र केवल सुहाग की निशानी ही नहीं बल्कि है सेहत के लिए वरदान भी

क्या आप जानते हैं मंगलसूत्र केवल सुहाग की निशानी ही नहीं बल्कि है सेहत के लिए वरदान भी- भारत में तरह-तरह की परम्पराएं निभाई जाती है। भारतीय समाज में शादी का बहुत ज्यादा महत्व होता है। एक शादीशुदा औरत को भारत में काफी आदर की निगाह से देखा जाता है। यहाँ शादी के समय भी अन्य जगहों से अलग रश्म अदा की जाती है। आपको यह तो पता ही है कि भारत में कई धर्म के लोग मिलजुलकर रहते हैं। सभी धर्मों के अपने-अपने देवी-देवता हैं और सभी के अपने अलग रश्मों-रिवाज भी हैं।

मंगलसूत्र धारण करनें से होता है सेहत सम्बन्धी फायदा:
हिन्दू धर्म में उन्ही महिलाओं को शादी-शुदा माना जाता है, जिनके माथे पर सिंदूर और गले में मंगलसूत्र होता है। हिन्दू धर्म की सभी महिलाओं को शादी के बाद आपने मंगलसूत्र और सिंदूर पहनते देखा होगा। लेकिन आपने ये कभी विचार किया है कि महिलाएँ ऐसा क्यों करती हैं और इससे क्या फायदा होता है? आज हम आपको मंगलसूत्र पहननें से होनें वाले सेहत सम्बन्धी फायदों के बारे में बतानें जा रहे हैं, जो यक़ीनन आप इससे पहले नहीं जानते होंगे।

मंगलसूत्र पहननें से होनें वाले फायदे:
*- मंगलसूत्र पहननें से महिलाओं के अन्दर सकरात्मक उर्जा का संचार होता है। जिससे वह सकारत्मक विचार रखती हैं, जो उन्हें जीवन में आगे बढनें की प्रेरणा देता है।

*- मंगलसूत्र काले मोतियों और सोनें से मिलकर बनाया जाता है। अगर विशेषज्ञों की मानें तो ये दोनों ही चीजें महिलाओं की सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं।

*- महिलाएँ जो मंगलसूत्र धारण करती हैं, उनके, मोतियों से जो हवा गुजरकर उन्हें लगती है, उससे उनका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। इससे उनकी रोगों से लडनें की क्षमता में वृद्धि होती है।

*- आयुर्वेद भी इस बात को स्वीकार करता है कि सोना धारण करना स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा होता है। जो महिलाएँ मंगलसूत्र के रूप गले में सोना धारण करती हैं उनका हृदय और छाती मजबूत रहता है।

*- यह भी माना जाता है कि मंगलसूत्र धारण करनें से पति-पत्नी के संबंधों में मधुरता और मजबूती आती है।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...