बिहार में बाढ़ की स्थिति विकट, 14 जिलों के 45 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित

बिहार में बाढ़ की स्थिति विकट, 14 जिलों के 45 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित

राज्य में बाढ़ का प्रकोप निरंतर बढ़ता जा रहा है. जहां नदियों में बाढ़ आ जाने के कारण अब तक 45 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं. आपदा प्रबंधन विभाग ने शुक्रवार को जारी बुलेटिन में कहा कि पिछले 24 घंटे में बाढ़ के कारण किसी की मौत नहीं हुई, लेकिन इस प्राकृतिक आपदा के कारण प्रभावित हुए लोगों की संख्या में इस अवधि में पांच लाख से अधिक की बढ़ोतरी हुई है.

बाढ़ के कारण राज्य में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है. विभाग ने बताया कि 14 जिलों की 1,012 पंचायतों में बाढ़ प्रभावित लोगों की संख्या बढ़कर 45.63 लाख हो गई है, जबकि इससे एक दिन पहले यह संख्या 39.63 थी.

लगातार हो रही बारिश के कारण पिछले कुछ दिनों से समस्तीपुर मंडल में स्पेशल ट्रेनों का परिचालन बाधित है. इस मंडल के समस्तीपुर-दरभंगा रेलखंड पर तीन रेलपुलों के निकट जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर आ जाने के कारण पूर्व मध्य रेल द्वारा कुछ स्पेशल ट्रेनों को परिवर्तित मार्ग से चलाया जा रहा है. वहीं कुछ स्पेशल ट्रेनों का परिचालन आंशिक समापन/प्रारंभ करके किया जा रहा है.

विधानसभा चुनाव के निकट होने के मद्देनजर, बाढ़ से निपटने संबंधी सरकारी प्रयासों को लेकर राज्य सरकार और विपक्षी दलों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. पूर्वी चंपारण के बाढ़ पीड़ित इलाके का दौरा करने वाले विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने अब तक नीतीश कुमार सरकार द्वारा ‘‘केवल 19 राहत शिविर’’ बनाए जाने पर हैरानी जताई.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘बिहार के जल संसाधन मंत्री बाढ़ नियंत्रण और जल संसाधन छोड़कर जेडीयू के लिए संसाधन उत्पन्न करते मिलेंगे. पिछले चार महीने के विपदा काल में आपदा प्रबंधन मंत्री को किसी ने देखा ही नहीं. मुख्यमंत्री 135 दिन से घर से बाहर नहीं निकले हैं.’’

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...