रोहतक में बादलों ने खींच लिया खेतों का पानी, हैरान हो लोग बोले- पहले नहीं देखा ऐसा बवंडर



रोहतक के किलोई गांव में धान की फसल में भरे पानी को बादलों ने खींच लिया। सैंकड़ों मीटर उपर जा रहे पानी को देख किसान हैरान रह गए। किसी ने वीडियो भी बना लिया गया और यह वायरल हो रहा है...

रोहतक, जेएनएन। बादलों से पानी बरसते तो शायद हर किसी ने ही देखा होगा। मगर बादलों को पानी खींचते शायद ही किसी ने देखा हो। हम किसी फिल्‍म या टीवी सीरीयल की बात नहीं कर रहे बल्कि आंखों से देखे जाने वाली ऐसी घटना का जिक्र कर रहे हैं। रोहतक के कुछ किसानों ने ऐसा ही नजारा देखा, जब बादल धान की फसल में भरे हुए पानी को खींच रहे थे।

नजारा रोहतक जिले के गांव का था। लगातार खूब बारिश होने के बाद जब बादलों ने एकाएक खेत से पानी खींचना शुरू कर दिया। पास ही काम कर रहे किसान इसे देख घबरा गए और टकटकी लगा देखने लगे। जीवन में पहली पानी के बंवडर को देख वे हैरान हो गए और इन पलों को फोन के कैमरे में कैद कर लिया। किलोई में पानी का बवंडर देख किसानों का कहना है कि उन्होंने अपने जीवन में गांव में पहली बार ऐसी घटना देखी है, जब पानी सैंकड़ों फीट ऊपर बादलों की ओर जाते दिखाई दिया है। यह घटना किलोई स्थित प्राचीन शिव मंदिर के निकट खेतों में देखी गई है। ग्रामीणों में यह कोतूहल का विषय बनी हुई है।

इसको लेकर मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि यह एक प्राकृतिक घटना है। जब तालाब, झील या जल से लबालब खेतों आदि के ऊपर हवा का कम दबाव बनता है तो इस प्रकार की घटनाएं कभी कभी देखने को मिल जाती हैं। पानी के इस बवंडर का समय अधिक नहीं होता है और यह लगभग 10-15 मिनट तक ही रहता है। यह केवल पानी वाले स्थानों के ऊपर ही बनता है। सूखी जगह पर आते ही यह समाप्त हो जाता है।

विशेषज्ञ मानते हैं कि इस प्रकार के पानी के बवंडर अमेरिका आदि में अधिक आते हैं और वे खतरनाक भी होते हैं। लेकिन यहां कभी कभी ही देखने को मिलते हैं। यह छोटे स्तर पर होने से खतरनाक नहीं होते हैं। किलोई गांव स्थित प्राचीन शिव मंदिर कमेटी के प्रधान सोरभ अत्री के अलावा ग्रामीण अमित व बलवान आदि ने बताया कि शुक्रवार दोपहर के समय खेतों ग्रामीणों ने अद्भुत घटना देखी। उन्होंने खेतों में पानी को बवंडर के रूप में ऊपर बादलों की ओर उठते देखा। प्राचीन शिव मंदिर के पास यह घटना देखी गई है। करीब 15 मिनट तक यह घटना देखी गई। पानी का बवंडर करीब पांच एकड़ तक चलता गया और फिर सड़क आने पर समाप्त हो गया। इससे धान के पौधों व पेड़ों को नुकसान पहुंचा है। उन्होंने बताया कि जीवन में ऐसी घटना पहली बार देखी गई है। घटना से सभी हैरान है और इसको लेकर अलग अलग कयास लगा रहे हैं।

वाटरस्पॉट बनना एक प्राकृतिक घटना है। झील, तालाब या पानी से भरे खेतों आदि के आसपास जब कभी कम दबाव का क्षेत्र बनता है तो वहां पानी का बवंडर देखने को मिल जाता है। इसमें पानी ऊपर की ओर जाता है और कुछ समय बाद ही आसपास गिर भी जाता है। पानी का यह बवंडर कुछ दूरी पर चलकर यह समाप्त हो जाता है। इससे ज्यादा नुकसान नहीं होता है। भारत में इस तरह की घटना कम देखने को मिलती है। लेकिन अमेरिका आदि में यह बड़े स्तर पर आते हैं और खतरनाक भी होते हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...