राममंदिर की नींव के लिए भेजी उज्जैन-ओंकारेश्वर की मिट्टी और नर्मदा-शिप्रा का जल

राममंदिर की नींव के लिए भेजी उज्जैन-ओंकारेश्वर की मिट्टी और नर्मदा-शिप्रा का जल

अयोध्या में भगवान राम के भव्य राममंदिर की आधारशिला पांच अगस्त को रखी जाएगी। मंदिर की नींव में रखे जाने वाले कलश में तीर्थ नगरी उज्जैन-ओंकारेश्वर की मिट्टी और नर्मदा-शिप्रा नदी का पवित्र जल भी होगा। मिट्टी और जल एकत्र कर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के पदाधिकारियों ने अयोध्या के लिए रवाना भी कर दिया है।

विहिप मालवा प्रांत अध्यक्ष कांतिभाई पटेल ने बताया कि कुछ दिनों पहले परिषद की केंद्रीय समिति ने संपर्क कर उज्जैन और ओंकारेश्वर की मिट्टी और जल भेजने के लिए कहा था। हमने दोनों नगरों में मंदिर परिसर से मिट्टी और नर्मदा-क्षिप्रा का जल अयोध्या पहुंचा दिया है। पांच अगस्त को जब भूमिपूजन होगा तो परिषद के पदाधिकारी घरों में भगवा पताका लगाएंगे और हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष वीएस कोकजे ने बताया कि देशभर के तीर्थ क्षेत्रों की मिट्टी और पवित्र नदियों के जल का उपयोग भूमिपूजन में होगा। ज्योतिर्लिग महाकालेश्वर और ओंकारेश्वर मंदिर की मिट्टी भी इसके लिए मंगाई थी।

महाकाल को चढ़ने वाली भस्म आज भेजेंगे

महाकाल मंदिर के सहायक प्रशासनिक अधिकारी आरके तिवारी ने बताया कि महानिर्वाणी अखाड़ के महंत विनीत गिरी जी के माध्यम से भगवान महाकाल की भस्म अयोध्या भेजी जा रही है।

आज और भेजेंगे शिप्रा का जल और महाकाल की मिट्टी

विश्व हिंदू परिषद के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष अनिल कासलीवाल ने बताया कि सोमवार को भी महाकाल मंदिर परिसर की मिट्टी और शिप्रा नदी का जल भी भूमिपूजन के लिए अयोध्या भेजा जाएगा। सुबह 10.15 महाकाल मंदिर में पूजन के बाद मिट्टी और जल एक बार फिर अयोध्या भेजेंगे। यह विशेष पूजन के बाद भेजा जाएगा।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...