राफेल विमानों का स्वागत, लेकिन खरीद प्रक्रिया को लेकर मुद्दे हैं: कांग्रेस

राफेल विमानों का स्वागत, लेकिन खरीद प्रक्रिया को लेकर मुद्दे हैं: कांग्रेस

कांग्रेस ने सोमवार को कहा कि राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप आने का वह स्वागत करती है, लेकिन इन विमानों की खरीद के अनुबंध से संबंधी कुछ मुद्दे हैं जिनको उसने पहले उठाया था। पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने यह भी कहा कि राफेल एक अच्छा लड़ाकू विमान है और खरीद के लिए इसका चयन कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार में हुआ था। उन्होंने वीडियो कांफ्रेस के माध्यम से संवाददाताओं से कहा कि विमान में कुछ भी गलत नहीं है। जो मुद्दे हैं वो इसके अनुबंध की प्रक्रिया से जुड़े हुए हैं।

गौरतलब है कि राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप के रूप में पांच विमान सोमवार को फ्रांस से भारत के लिये रवाना हो गए हैं। इन विमानों के बुधवार को अंबाला वायुसेना स्टेशन पहुंचने की उम्मीद है। भारत ने वायुसेना के लिये 36 राफेल विमान खरीदने के लिये चार साल पहले फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपये का करार किया था।

पांच राफेल विमानों का पहला जत्था यूएई के अल दाफरा हवाईअड्डे पहुंचा

फ्रांस के बंदरगाह शहर बोर्डेऑस्क में मैरीग्नेक वायुसेना अड्डे से रवाना हुए ये विमान लगभग सात हजार किलोमीटर का सफर तय करके बुधवार को अंबाला वायुसेना अड्डे पर पहुंचेंगे। बीच में यह विमान फिलहाल संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के अल दाफरा हवाईअड्डे पर रुके हैं। फ्रांस में भारतीय राजदूत जावेद अशरफ ने विमानों के भारत रवाना होने से पहले भारतीय वायुसेना के पायलटों से बातचीत में कहा, “आप इन्हें (राफेल को) बेजोड़ और बलवान दोनों कह सकते हैं।”

अधिकारियों ने शाम को कहा कि सभी पांच राफेल विमान करीब सात घंटे की उड़ान के बाद यूएई के अल दाफरा हवाईअड्डे पर सुरक्षित उतर गए हैं। भारतीय वायुसेना के एक अधिकारी ने कहा कि इस जत्थे में तीन एक सीट वाले और दो विमान दो सीटों वाले हैं। इन विमानों के बुधवार को अंबाला वायुसेना स्टेशन पहुंचने की उम्मीद है, जब इन्हें औपचारिक रूप से भारतीय वायु सेना में उसके 17वें स्क्वाड्रन के तौर पर शामिल किया जाएगा जिसे ‘गोल्डन ऐरो’ भी कहा जाता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...